whatsapp

MP Crime: फाइनेंस कंपनी के मैनेजर से लूट मामले में इंदौर से 3 गिरफ्तार, हरदा में दो युवकों की हत्या मामले में मृतक और आरोपियों के परिजनों ने लगाई न्याय की गुहार

प्रदीप ठाकुर, देवास/कपिल शर्मा, हरदा। मध्यप्रदेश के देवास जिले में फाइनेंस कंपनी के मैनेजर से करीब डेढ़ लाख की लूट करने वाले तीन बदमाशों को पुलिस ने इंदौर से धर दबोचा है। एसपी ने इसकी जानकारी दी है। इधर हरदा जिले में बीते दिनों हुई दो युवकों की हत्या के मामले में मृतक और आरोपियों के परिजनों ने एसपी मुलाकात कर उचित न्याय की गुहार लगाई है।

देवास में लूट के तीन आरोपी गिरफ्तार

दरअसल 21 नवंबर को अरुण धनगर निवासी सांगाखेडी थाना आष्टा ने पुलिस को सूचना दी। उसने बताया कि उदयनगर क्षेत्र के आस पास भारत फाइनेंस लिमिटेड में मैनेजर की नौकरी करता है। जब समूह लोन की किश्त लेने गांव पिपरी, बोरपडाव, कटुकिया से किश्त लेकर वापस आ रहा था, तभी बोरपडाव कटुकिया के बीच जंगल रोड पर एक मोटर सायकिल पर बैठे दो व्यक्ति ने रोका लिया।

अज्ञात आरोपियों ने अरुण के सिर पर डंडे से वार कर पीठ पर रखे बैग जिसमें लगभग डेढ लाख रुपये थे, लेकर भाग गए। आरोपी बैग में रखी टेबलेट बायोमेट्रिक और किश्त के नगदी रुपये छीनकर लाल रंग की एचएफ डीलक्स लेकर जंगल की तरफ भाग निकले।

पूर्व राज्यपाल के घर करोड़ों की चोरी: पुलिस हिरासत में आरोपी, एक महीना पहले चोरों ने किया था हाथ साफ

घटना की सूचना मिलने पर उदयपुर थाना प्रभारी कुवरलाल बरकड़े अपने स्टाफ को लेकर घटनास्थल पर पहुंचे। घटनास्थल की सूक्ष्मता से जांच की। जीवनसिंह की रिपोर्ट पर उदयपुर थाने में 433/2022 धारा 394 भादवि का मामला दर्ज कर विवेचना में लिया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल एक विशेष टीम गठित की गई। साइबर सेल और CCTV चेक किये गये। जिसके आधार पर अज्ञात आरोपियों को इंदौर जिले से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने तीनों आरोपियों से 10,000 रुपये नगद, 2 मोबाइल फोन, 1 मोटर साइकिल, टेबलेट, बैग, बायोमेट्रिक और अन्य चोरी का माल बरामद किया है।

आरोपी आशाराम पिता नारायण भंवर उम्र 35 साल निवासी कटुकिया थाना उदयनगर जिला देवास, गोपीचंद पिता तुकाराम कोली उम्र 32 साल निवासी पोलाखाल थाना उदयनगर जिला देवास, रामदास पिता कुंवरजी जाति भिलाला उम्र 46 साल निवासी पोलाखाल थाना उदयनगर जिला देवास के रहने वाले है। इनमें दो आरोपियों पर पूर्व में प्रकरण दर्ज है। घटना का खुलासा एसपी डॉ शिवदयाल सिंह ने किया है।

दो युवकों की हत्या का मामला, मृतक और आरोपियों के परिजनों ने एसपी से लगाई न्याय की गुहार

हरदा के ग्राम विक्रमपुर में विगत दिनों दो युवकों की लाश सिराली के पास स्यानी नदी में मिली थी। जिसमें सिराली पुलिस ने दो लोगों को आरोपी बनाकर जेल भेज दिया। लेकिन दोनों आरोपियों के परिजनों का कहना है कि उनके बेटे निर्दोष है। उन्होंने एसपी मनीष कुमार अग्रवाल को एक आवेदन देकर उचित कार्रवाई की मांग की है। साथ ही मृतक के परिजनों को भी अन्य तीन लोगों पर संदेह है। मृतक के परिजनों ने भी निष्पक्ष जांच कर दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है।

सिराली थाना क्षेत्र के गांव खुदिया में स्यानी नदी के पास विगत 16 सितंबर की रात दो युवक शुभम राजपूत और दीपक राजपूत की दर्दनाक हत्याकांड का मामला सामने आया था। जिसमें सिराली पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार किया है। जबकि दोनों युवकों की हत्या हुई थी। दोनों युवकों के शव अलग-अलग जगह मिले थे। वहीं शुभम की लाश पुलिस को दूसरे दिन बड़ी मशक्कत के बाद तलाश करने पर मिली। हालांकि सिराली पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया है। लेकिन अब पुलिस की कार्यवाही पर सवाल खड़े हो रहे है।

डकैती: हथियारबंद बदमाशों ने परिवार को बंधक बनाकर की मारपीट, नकदी और लाखों के जेवर लेकर हुए फरार

दोनों मृतक के परिजन और दोनों आरोपियों के परिजन हरदा कलेक्ट्रेट ऑफिस पहुंचकर एसपी मनीष कुमार अग्रवाल से मिलकर न्याय की लगाई गुहार। इन्होंने कहा कि साहब निष्पक्ष जांच की जाए तो हत्या में शामिल अन्य लोग गिरफ्तार हो जाएंगे।

मृतक के पिता ने कही ये बात

मृतक के पिता भगवान सिंह ने बताया कि आरोपी राहुल और कन्हैया के पिता ने कहा है कि हमारे लड़को ने ऐसा काम नहीं किया। इसमें दूसरे लोग है। जिसमें दो अनिल नाम के और एक गोलू है। उन्होंने कहा कि वे आधार कार्ड और समग्र आईडी ऑनलाइन का काम करते है। वे गोमगांव से कैलारी लौट रहे थे। इनका झगड़ा चल रहा था अनिल और गोलू ने रोक कर दारू लाने कहा और उनको आपराधिक घोषित कर दिया है। उन्होंने एसपी से निष्पक्ष जांच कर घटना में शामिल अन्य लोगों पर कार्रवाई की मांग की।

आरोपियों के परिजनों ने बताया निर्दोष, निष्पक्ष जांच की मांग की

इधर आरोपी राहुल के पिता हिम्मतलाल निवासी कैलारी ने बताया कि हमारे बच्चे ने ऐसा कुछ नहीं किया। उनको फंसाया गया है। उन्होंने कहा कि जो खास आरोपी है उनको पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया है। वहीं आरोपी कन्हैया के बड़े भाई रामकिशन निवासी कैलारी ने कहा कि मैं कलेक्टर ऑफिस एसपी साहब के पास आया हूं। पुलिस निष्पक्ष जांच करे तो सही आरोपी पकड़ा जा सकता है। उन्होंने कहा मैं कोशिश करूंगा कि इसमें सीबीआई जांच हो।

इस पूरे मामले मे खिरकिया एसडीओपी उदय भान सिंह ने कहा कि प्रकरण में जो अभी तक मौजूदा साक्ष रहे हैं। इसमें घटना से संबंधित चीजें आई है। उसके आधार पर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। वहीं मृतक के परिजन की तरफ से बार-बार शिकायत आवेदन पत्र दिए गए हैं। उसके संबंध में जांच चल रही है।

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

Related Articles

Back to top button