whatsapp

हाईटेंशन लाइन से निगमकर्मी की मौत का मामला: पुलिस पर अधिकारियों को बचाने का आरोप, आर्थिक मदद को नकाफी बताते हुए पत्नी को नौकरी देने की मांग

कर्ण मिश्रा, ग्वालियर। मप्र के ग्वालियर में मंगलवार को नगर निगम के विद्युत विभाग में पदस्थ लाइन हेल्पर लाल सिंह की हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने पर दर्दनाक मौत हो गई थी। यह हादसा तब हुआ था जब वह हाइड्रोलिक क्रेन के जरिए स्ट्रीट लाइट को सुधार रहा था। हादसे के बाद लाल सिंह के परिजनों ने आज पोस्टमार्टम हाउस पर हंगामा करते हुए नगर निगम के अधिकारियों और पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

लाल सिंह के परिजनों का आरोप है कि वह लाइन हेल्पर था उसके बावजूद लाइन मैंन ने उसे हाइड्रोलिक क्रेन पर चढ़ा कर स्ट्रीट लाइट सुधारने के लिए मजबूर किया ऐसे में वह हाईटेंशन लाइन की चपेट में आया और उसकी दर्दनाक मौत हो गई। इसलिए मौके पर मौजूद सब इंजीनियर अभिलाषा सिंह के साथ लाइनमैन के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। इसके साथ ही पुलिस निगम के अधिकारियों को बचाने का प्रयास कर रही है, यही कारण है कि मनमाफिक एफआईआर दर्ज करने की तैयारी कर रही है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

बीना की युवती राधिका की पुरी में संदिग्ध मौतः मामले को लेकर ओडिशा पुलिस ने गठित की विशेष जांच दल, परिजनों को रेप के बाद मर्डर की आशंका

मृतक के परिजनों ने चेतावनी दी है। उनका कहना है कि निगम ने लाल सिंह के परिवार को दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई है, जो नाकाफी है। क्योंकि लाल सिंह की तीन बेटियां हैं, जिनमें एक मानसिक विक्षिप्त है। ऐसे में उनके बेहतर भरण-पोषण के लिए लाल सिंह की पत्नी को तत्काल नौकरी उपलब्ध कराई जाए, यदि यह सब नहीं होता है तो वह पीड़ित परिवार की न्याय के लिए शव रखकर चक्का जाम करेंगे। हालांकि इस पूरे मामले पर निगम के अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं।

नकली पुलिस को देख असली पुलिस भी हैरान: MP में सब इंस्पेक्टर समेत तीन नकली पुलिसकर्मी पकड़ाए, पूछताछ जारी

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

Related Articles

Back to top button