whatsapp

MP में लोकायुक्त की कार्रवाई: आरटीओ विभाग के UDC और दो अन्य कर्मचारी 96 हजार रिश्वत लेते पकड़ाए, 4 महीने बाद अधिकारी का था रिटायरमेंट

यश खरे,कटनी। मध्यप्रदेश में रिश्वख़ोरों पर दोहरी कार्रवाई की जाएगी. इस आदेश के बावजूद अधिकारी-कर्मचारी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं. जबलपुर लोकायुक्त की टीम ने कटनी आरटीओ विभाग में UDC के पद पर पदस्थ जितेंद्र सिंह बघेल सहित दो अन्य कर्मचारी को 96 हजार रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है.

जानकारी के मुताबिक UDC जितेंद्र सिंह बघेल का 4 महीने बाद रिटायरमेंट है. इससे पहले ही उन पर कार्रवाई हो गई. जितेंद्र सिंह बघेल और कर्मचारी सुखेंद्र तिवारी, रावेन्द्र सिंह ने ऑटो के 16 और ट्रैक्टर के 46 नए रजिस्ट्रेशन फाइल के एवज में घूस मांगे थे.

Big Breaking: बंसल ग्रुप के 40 ठिकानों पर एकसाथ इनकम टैक्स की रेड, रिंग सेरेमनी की स्टीकर लगे वाहनों से अलसुबह पहुंची IT टीम, कार्रवाई जारी

जिसकी शिकायत जबलपुर लोकायुक्त से की गई थी. आज टीम ने ट्रैप की कार्रवाई करते हुए जितेंद्र सिंह बघेल समेत तीनों को 96 हजार रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है. सभी के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है. फिलहाल आगे की जांच जारी है.

अब रिश्वख़ोरों पर गिरेगी दोहरी कार्रवाई की गाज

मध्यप्रदेश में छापामार कार्रवाई और रंगेहाथ रिश्वत लेते ट्रैप होने वालों अधिकारी-कर्मचारियों की मुश्किलें बढ़ने वाली है. ट्रैप होने वाले कर्मचारियों को अब दोहरी जांच का सामना करना पड़ेगा. पकड़ने जाने पर लोकायुक्त-ईओडब्ल्यू और विभागीय जांच एक साथ होगी. इस मामले में संबंधित विभाग भी जांच शुरू कर सकता है. दिग्विजय सिंह की सरकार के वक्त यही व्यवस्था लागू थी.

अब 23 साल बाद व्यवस्था को फिर बहाल किया गया है. 30 जुलाई 2013 को विभाग ने समानांतर जांच का आदेश निरस्त किया था. राज्य सरकार ने 9 साल पुराने एक आदेश को सुप्रीम कोर्ट का हवाला देकर निरस्त कर दिया था. जिसे अब फिर से लागू किया गया है.

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

Related Articles

Back to top button