शहरी नेटवर्क ध्वस्त होने पर बौखलाए नक्सली, विधानसभा उपाध्यक्ष मंडावी को जान से मारने की दी धमकी

कांकेर। विधानसभा उपाध्यक्ष व भानूप्रतापपुर विधायक मनोज मंडावी को नक्सलियों ने जान से मारने की धमकी दी है. नक्सलियों ने ये धमकी प्रेस नोट के जरिये दी है. इसे माओवादियों के उत्तर बस्तर डिविजनल कमेटी के सचिव सुखदेव वट्टी ने जारी किया है. इसमें सरकार पर रोड ठेकेदारों को शहरी नेटवर्क बताकर फंसाने का आरोप लगाया है. इसके साथ ही सुपरवाइजरों, ग्रामीणों, राजनीतिक विरोधियों को फंसाने बंद करने की चेतावनी दी है. ऐसा नहीं करने पर विधायक को गांव आने पर जनअदालत में सजा देने की बात कही है. बता दें कि पुलिस लगातार नक्सलियों के शहरी नेटवर्क को ध्वस्त कर रही है. दर्जनभर लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. जिसके चलते नक्सली बौखला गए हैं.    

Close Button

इसे भी पढ़े-बड़ी खबर- माओवादियों के बढ़ते अर्बन नेटवर्क की वजह से बदले गए इंटेलीजेंस चीफ हिमांशु गुप्ता ! वीआईपी सुरक्षा को लेकर सरकार ने बदली रणनीति, अब SP की होगी पूरी जिम्मेदारी

पढ़िये नक्सलियों का प्रेस नोट

शहरी नेटवर्क के नाम से रोड ठेकेदारों, उनके सूपरवाइजरों,ग्रामीणों, राजनीतिक विरोधीयों को फसाने बंद करो! प्रिय पत्रकार बंधुओं, जनता!!

कांकेर जिला पुलिस माओवादी शहरी नेटवर्क के नाम से रोड ठेकेदारों, उनके कर्मचारीयों, साधारण ग्रामीणों को धडल्ले से मार्च में से गिरफ्तारी सिलसिलेवार जारी है, भ्रष्ट राजनेताओं को, अधिकारियों, पुलिस को ठंडरों में 50%बनवारी कर ही कम गुणवत्ता वालीकाम करते हैं, कई गावों की जनता गुणवत्ता का शिकायत दर्ज कराने, सड़क पर उतरने से कोई कार्रवाई नहीं की, क्योंकि सभी का मिलीभगत है!पुलिस रोड ठेकेदारों, निर्माण कार्यों कि सुरक्षा के लिए दसियों पुलिस कैंप खोले हैं, पुलिस कि मांग पूरा कर ही कम गुणवत्ता वाली काम करतेहैं, यह सभ दुनिया जानती है! जहां जहां पुलिस की ज़ेब नही भरती वहां माओवादी नेटवर्क याद आती है, इसी आड में बढ़े पैमाने पर एंट सकते है! राजनीतिक नेता अपनी जेब भरने के लिए, राजनीतिक विरोधी यों को भी फसाकर रोटी सेंकते है! मुख्यतः आदिवासी अंचलों में लूट का कोई हिसाब ही नहीं! जनता पर हो रही अत्याचारों पूछने वाला नहीं है!

माओवादी पार्टी को एक आर्थिक पालसी है, किस से चंदा लेना,किस व्यवसाय से टैक्स वसूलने!यह सब पार्टी जनता के लिए खर्च करता है, प्रत्येक पैसा का हिसाब हमारे कैडर पार्टी को सौंपते हैं, हमारे एक आर्थिक पालसी है! शोषक-शासक वर्ग के नेता, अफसर, जैसा निजी स्वार्थ हमारे यहां नहीं है! तुम लोग ने देश को लूट कर विदेशी बैंकों में लाखों करोड़ों जमा किये हैं, देश के साथ गद्दारी किया जा रहा है! तुम्हारे देशद्रोह कृत्यों को उजागर होने से बचाने के लिए देश छोड़ कर भाग रहे हैं! अपनी कारनामों को छुपाने के लिए माओवादी पार्टी को बदनाम किया जा रहा है!पुलिस और रोड ठेकेदारों ने अपनी निजी स्वार्थ के लिए बोले बाले आदिवासी लड़कों को उपयोग करना, समस्याओं में फसाना आम बात है! पुलिस अपनी कारनामों, अक्षमता को छुपाने, आवार्ड-रिवार्ड के लिए, व्यापारियों, ठेकेदारों, राजनीतिक विरोधी यों को, झूठे प्रकरणों में जेलों में ठूसना,मुठभेडों के नाम से हत्याए करना, गस्ती के नाम से जनता पर कहर बरपाना आम बात है! ताजा उदाहरण के लिए कोंडे गांव में आदिवासी विरोधी, हिंदूधार्मिकता के प्रचारक, आरएसएस गुंडे दादूसिंह को जनअदालत में हमारे पीएलजीए ने मार दिया था, पोस्ट डाला, प्रेस विज्ञप्ति भी दिया फिर भी पांच आदिवासियों को पुलिस ने फसाया ,वर्तमान में सलाके के पीछे9मह से बंद है! कांग्रेस नेताओ कि समर्थन से ही पुलिस की अत्याचार बढ़ रही है, जनता के असली मुद्दे से ध्यान हटाने के लिए पुलिस इस तरह का हथकंडे अपना रही है,

माओवादी शहरी नेटवर्क के नाम से रोड ठेकेदारों, व्यापारियों, राजनीतिक विरोधियों 

को गिरफ्तारी पूर्ण रूप से कांग्रेस पार्टी नेता हि जिम्मेदारी है, कांकेर जिला में पुलिस कि अत्याचारोंके खिलाफ संगठित आवाज उठाने, स्थानीय विधायक मनोज मंडावी को गावों में आने से मार भगाओ, गांव गांव में भाजपा-कांग्रेस पार्टी के नेताओं को जनअदालत में सजा देंगे! यह दोनों पार्टी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं!

प्रिय जनता से अपील

शासक वर्ग ने आदिवासी अंचलों में ले नुमोल खनिज संपदा, जल-जंगल-जमीन को हड़पने के लिए क्रांतिकारी आंदोलन को बदनाम करने के लिए कई प्रकार की प्रचार करते हैं, उभरते हुए जन-आंदोलनों को, विस्थापन विरोधी आंदोलनों को बलपूर्वक नष्ट करने के लिए पार्टी के साथ संबंध जोड़ कर आवाज को कुचलना चाहते हैं! क्रांतिकारी पार्टी को किसी भी प्रकार की मदत करना दोष कह जाते हैं, वही देश के साथ गद्दारी कर, लूट कर अपने तिजोरी भरने वाले पार्टीयां, नेता, अफसर, पुलिस देश प्रेमी कहा जाता है! इन गद्दारों को, शोषण कारी व्यवस्था को उखाड़ फेंकना हमारे सभी का जिम्मेदारी है, सभी जनता की समस्याओं का झड शोषणकारी व्यवस्था है, इस व्यवस्था को उखाड़ फेंकने के लिए एकजुट होकर क्रांतिकारी आंदोलनों में सक्रिय रूप सेभागलेना, शोषण हीन समाज निर्माण जनयुद्द ही एक मात्र रास्ता है! आओ हम सब मिलकर अंत तक लडेंगे! 1)माओवादी शहरी नेटवर्क के नाम से गिरफ्तारी किया गया सभी को तत्काल रिहा कराने के लिए संघर्ष करेंगे, 2)भ्रष्टाचारी, राजनीतिक पार्टियों को, नेताओं को, अफसरों को मार भगेइंगे, 3)पुलिस की अत्याचार के खिलाफ जुझारू संघर्ष करेंगे!

(सुखदेव वट्टी), सचिव, उत्तर बस्तर डिविजनल कमेटी, भाकपा (माओवादी)!

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।