NIA ने आतंकी संगठन सूफा से जुड़े 11 लोगों के खिलाफ जयपुर में दाखिल किया चार्जशीट, कई चौंकाने वाले तथ्य आए सामने, इमरान समेत 10 आरोपी मप्र के है रहवासी

शब्बीर अहमद,भोपाल। एनआईए ने 30 अप्रैल को राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले के निंबाहेड़ा में एक कार से भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री बरामद किया था. इस मामले में अलसूफा आतंकी संगठन के कुल 11 आतंकियों के खिलाफ जयपुर की एनआईए कोर्ट में चालान पेश किया. इस पूरे प्रकरण में एनआईए द्वारा की गई जांच में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं, जिन्हें एनआईए ने अपनी चार्जशीट में बड़े विस्तार से पेश किया है. मुख्य आरोपी इमरान समेत 10 आरोपी मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं.

PFI कनेक्शन की अब हर जिले में होगी जांचः एमपी के 25 जिलों में नेटवर्क, मध्यप्रदेश के पांच जिले PFI का हॉट स्पॉट

चार्जशीट में कहा गया है कि सभी आरोपी आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वाले थे. जिसमें मुख्य साजिशकर्ता इमरान खान है और बाकी सभी उसके सहयोगी हैं. पकड़े गए सभी आतंकी ISIS की विचारधारा और गतिविधियों से प्रेरित हैं. मुख्य साजिशकर्ता इमरान मीटिंग और ट्रेनिंग करवाता था. आतंकियों ने आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए और आतंक फैलाने के लिए हथियार, गोला, बारूद व विस्फोटक सामग्री तैयार की.

पीएफआई छापा मामला: एनआईए ने कराया आरोपियों का मेडिकल परीक्षण, चारों को NIA विशेष कोर्ट में पेश करेगी

बता दें कि 30 अप्रैल 2022 को राजस्थान के चित्तौड़गढ़ के निंबाहेड़ा में सदर पुलिस ने एमपी नंबर की गाड़ी में सवार 3 आतंकी जुबेर, अल्तमश और सैफुल्लाह को 12 किलो विस्फोटक पदार्थ के साथ गिरफ्तार किया था. जिन्होंने विस्फोटक पदार्थ जयपुर ले जाने और जयपुर से 10 किलोमीटर पहले जमीन में गाड़ने की बात स्वीकार की थी. मुख्य साजिशकर्ता इमरान समेत 10 आरोपी मध्यप्रदेश के रतलाम के रहवासी है. इस पूरे प्रकरण की जांच राजस्थान एटीएस ने की, तो इसके तार अलसूफा आतंकी संगठन से जुड़े हुए पाए गए.

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

Related Articles

Back to top button