Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

शब्बीर अहमद,भोपाल। देश के यूपी वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग होने का दावा और चर्चा गर्म है। मामले में देश व्यापी चर्चा हो रही वहीं मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित जामा मस्जिद में भी मंदिर होने का नया और ताजा मामला सामने आया है। यह मामला भी जल्द ही कोर्ट पहुंचने वाला है। इस मामले को लेकर प्रदेश के गृहमंत्री को ज्ञापन सौंपा जा चुका है। हिंदू संगठन द्वारा कल (शुक्रवार) कोर्ट में याचिका दायर की जाएगी। जानकारी के अनुसार हिंदू संगठन संस्कृति बचाओ मंच ने दावा किया है कि जामा मस्जिद में पहले मंदिर था।

मंच के पदाधिकारी चंद्रशेखर तिवारी ने बताया कि कुदसिया बेगम ने 1832 में मस्जिद का निर्माण करवाया था। उन्होंने बताया कि बेगम ने अपने जीवनी हयाते कुदसी में ये लिखा है कि पहले शिव का मंदिर था जिसे तोड़कर मस्जिद का निर्माण किया गया है। इसी कड़ी में संस्कृति बचाओ मंच मस्जिद में मंदिर होने के तथ्यों के साथ कोर्ट में याचिका दायर करेगी।

Read More: मप्र में गाय के आहार पर गरमाई सियासत: पीसी शर्मा ने राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग, रजनीश अग्रवाल बोले- व्यवस्था पर कांग्रेस को आपत्ति क्यों ? जब हमने मांग उठाई थी, तब लाठियां चली थी

इस संबंध में गृहमंत्री को ज्ञापन संस्कृति बचाओ मंच के संयोजक और सदस्य ज्ञापन सौंपने भी पहुंचे। मंच ने कहा है कि प्रदेश में अनेकों मस्जिदों में मंदिर मौजूद है। मुस्लिम समाज बड़ा दिल करके हमें सभी जमीन सौंपे। मंच ने कहा है कि हिन्दू संगठन जीवनी के अलावा कुछ और दस्तावेज जुटाने में जुटा है। मामले को लेकर ‘सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ी जाएगी’।

भोपाल की जामा मस्जिद को लेकर नया दावे के बाद इतिहास के जानकार रिजवान अंसारी ने बताया कि पहले सभा मंडल था जामा मस्जिद की जगह। सभा मंडल में वेद शास्त्रों की शिक्षा दी जाती थी। शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चे वहां शिवलिंग की पूजा करते थे। ये शिवलिंग और प्रतिमा आज भी भोपाल के 4 मंदिरों में सरंक्षित है। आज भी कई धार्मिक चिन्ह मस्जिद में नजर आते हैं।

जामा मस्जिद विवाद पर बोले विधायक आरिफ मसूद। जामा मस्जिद के हमारे पास पूरे दस्तावेज है। सबूत मांगे जाएंगे तो दिया जाएगा। उन्होंने इस मुद्दे को बकवास बताया है। कहा- जामा मस्जिद को लेकर जो दावा किया गया वो बेबुनियाद। उन्होंने लोगों से की अपील की है मामले पर ना करे रिएक्ट।

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus