दैनिक भास्कर के छापे पर विपक्ष के नेताओं की तीखी प्रतिक्रिया, राहुल गांधी ने कहा- काग़ज़ पर स्याही से सच लिखना, एक कमज़ोर सरकार को डराने के लिए काफ़ी है

भोपाल। देश के बड़े मीडिया संस्थान दैनिक भास्कर के साथ उत्तर प्रदेश के भारत समाचार चैनल के ठिकानों पर भी आयकर और ईडी की टीम ने छापामार कार्रवाई की है. जानकारी के मुताबिक दैनिक भास्कर समूह के इंदौर, भोपाल, जयपुर सहित कई ठिकानों पर यह कार्रवाई की गई. वहीं लखनऊ से संचालित भारत समाचार चैनल के प्रधान संपादक ब्रजेश मिश्रा के घर पर भी छापा पड़ा है. हालांकि भास्कर ग्रुप पर आईटी और ईडी के छापे पर देश भर में सरकार के खिलाफ विपक्ष ने सवाल खड़े किए हैं. विपक्ष के नेता इसे प्रेस की हमला बता रहे हैं.

जानिए किसने क्या-क्या कहा…

केंद्र में विपक्ष के सबसे बड़े नेता राहुल गांधी ने भी इस कार्रवाई पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा कि ”काग़ज़ पर स्याही से सच लिखना, एक कमज़ोर सरकार को डराने के लिए काफ़ी है।”

सच्चाई से डरते हैं साहेब: पूर्व केंद्रीय मंत्री

भास्कर के ऊपर की गई कार्रवाई को लेकर कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव ने कहा कि ”दैनिक भास्कर के दफ्तरों पर आयकर विभाग का छापा बता रहा है कि सच्चाई से मोदी जी को तकलीफ हो रही है. जब जब साहेब सच्चाई से डरते हैं, सीबीआई, आईटी, ईडी को आगे करते हैं”

पत्रकारिता पर मोदीशाह का प्रहार: दिग्गी

भास्कर समूह के खिलाफ हुई छापेमार कार्रवाई पर राज्यसभा सांसद एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी सरकार भर्तसना की है. दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा कि ”पत्रकारिता पर मोदीशाह का प्रहार!! मोदीशाह का एक मात्र हथियार IT ED CBI! मुझे विश्वास है अग्रवाल बंधु डरेंगे नहीं। दैनिक भास्कर के विभिन्न ठिकानों पर इनकम टैक्स इन्वेस्टिगेशन विंग की छापामार कार्रवाई शुरू… प्रेस कॉन्प्लेक्स सहित आधा दर्जन स्थानों पर मौजूद है इनकम टैक्स की टीम”

सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं: नाथ

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी इस कार्रवाई को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए कहा कि ”मोदी सरकार में प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने का, सच को रोकने का काम शुरू से ही किया जा रहा है, अभी पेगासस जासूसी मामले में भी कई मीडिया संस्थान व उससे जुड़े लोग बड़ी संख्या में निशाने पर रहे है और अब सरकार की निरंतर पोल खोल रहे”. उन्होंने आगे कहा कि ”सच को देश भर में निर्भिकता से उजागर कर रहे दैनिक भास्कर मीडिया समूह को दबाने का काम शुरू हो गया है ? अपने विरोधियों को दबाने के लिये , सच को सामने आने से रोकने के लिये ईडी, आईटी व अन्य एजेंसियो का दुरुपयोग यह सरकार शुरू से ही करती रही है और यह काम आज भी जारी है. लेकिन ध्यान रखे कि सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं”.

छापे तुरंत बंद करने की केजरीवाल ने की मांग

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट में कहा, “दैनिक भास्कर और भारत समाचार पर आयकर छापे मीडिया को डराने का प्रयास है. उनका संदेश साफ़ है- जो भाजपा सरकार के ख़िलाफ़ बोलेगा, उसे बख्शेंगे नहीं।ऐसी सोच बेहद ख़तरनाक है।सभी को इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठानी चाहिए. ये छापे तुरंत बंद किए जायें और मीडिया को स्वतंत्र रूप से काम करने दिया जाए.”

मीडिया को दबाने का प्रयास: गहलोत

वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्विटर पर जारी एक बयान में आयकर विभाग की कार्रवाई को मीडिया को दबाने का प्रयास बताया है. उन्होंने कहा, ”दैनिक भास्कर अखबार और भारत समाचार न्यूज़ चैनल के कार्यालयों पर इनकम टैक्स का छापा मीडिया को दबाने का एक प्रयास है। मोदी सरकार अपनी रत्तीभर आलोचना भी बर्दाश्त नहीं कर सकती है। यह भाजपा की फासीवादी मानसिकता है जो लोकतंत्र में सच्चाई का आइना देखना भी पसंद नहीं करती है. ऐसी कार्रवाई कर मोदी सरकार मीडिया को दबाकर संदेश देना चाहती है कि यदि गोदी मीडिया नहीं बनेंगे तो आवाज कुचल दी जाएगी।”

लोकतंत्र को कुचलने का क्रूर प्रयास: ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्विटर पर कहा, “पत्रकारों और मीडिया घरानों पर हमला लोकतंत्र को कुचलने का एक और क्रूर प्रयास है. दैनिक भास्कर ने बहादुरी से रिपोर्ट किया है कि कैसे मोदी सरकार की लापरवाही से कोरोना के दौरान देश को भयानक दिन देखने पड़े.”

बता दें कि दैनिक भास्कर ने इस पूरी कार्रवाई को लेकर ट्वीट में कहा कि “मैं स्वतंत्र हूं, क्योंकि मैं भास्कर हूं, भास्कर में चलेगी सिर्फ पाठकों की मर्जी.”

आपको बता दें कि भास्कर समूह के करीब 40 ठिकानों पर आयकर विभाग ने आज यानी गुरुवार को सुबह से छापेमार कार्रवाई की. आयकर विभाग की कई टीमों ने दैनिक भास्कर के अलग-अलग राज्यों में स्थित दफ्तरों पर एक साथ छापेमारी की कार्रवाई की है. भास्कर के भोपाल स्थित मुख्यालय और प्रबंधकों के घर भी टीमें पहुंची.

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।