दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका हाईकोर्ट में खारिज

दिल्ली पुलिस कमिश्नर के तौर पर अस्थाना की नियुक्ति को दी गई थी चुनौती

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस कमिश्नर के रूप में राकेश अस्थाना की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका को दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है. दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने इससे पहले केंद्र को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था. एक एनजीओ ने उनकी नियुक्ति को चुनौती दी थी. गैर सरकारी संगठन सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन (CPIL) ने राकेश अस्थाना की नियुक्ति को चुनौती देते हुए हस्तक्षेप याचिका दाखिल की थी.

दिल्ली: इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर अफरातफरी, कई यात्रियों ने दौड़ते हुए पकड़ी फ्लाइट

 

याचिका में कहा गया था कि अस्थाना का अपेक्षित न्यूनतम कार्यकाल 6 महीने नहीं था, इसलिए उनकी नियुक्ति के लिए UPSC का कोई पैनल नहीं बनाया गया. साथ ही न्यूनतम दो साल के कार्यकाल के मानक को नजरअंदाज किया गया. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने अस्थाना की नियुक्ति पर याचिका पर दो हफ्ते में फैसला करने को कहा था.

लखीमपुर हिंसा को लेकर पत्रकारों ने किया सवाल, बिना कोई जवाब दिए चले गए डिप्टी CM दिनेश शर्मा

 

दिल्ली पुलिस कमिश्नर और गुजरात कैडर के आईपीएस राकेश अस्थाना ने दिल्ली हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल करते हुए कहा था कि सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है. दिल्ली पुलिस कमिश्नर के तौर पर उनकी नियुक्ति को चुनौती कानूनी कार्रवाई का गलत इस्तेमाल है और इसके पीछे बदले की भावना है. हलफनामे में अस्थाना ने कहा था कि जब से उन्हें सीबीआई का विशेष निदेशक बनाया गया था, तभी से कुछ संगठन उन्हें निशाना बनाकर उनके याचिकाएं दायर कर रहे हैं.

“Big Plan Foiled” As Terrorist Arrested in Delhi

 

राकेश अस्‍थाना को उनकी सेवानिवृत्ति से कुछ दिन पहले दिल्‍ली का पुलिस कमिश्नर बनाया गया था. वहीं दिल्ली विधानसभा में अस्‍थाना की पुलिस कमिश्‍नर के तौर पर नियुक्ति के खिलाफ बकायदा प्रस्‍ताव पारित किया था और केंद्र सरकार से इस नियुक्ति को वापस लेने को कहा था.

 

बालाजी श्रीवास्तव की जगह कमिश्नर बने थे राकेश अस्थाना

 

AAP ने कहा था कि ‘यह नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना है. सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि डीजीपी स्तर पर किसी की नियुक्ति होनी है, तो उनकी सेवानिवृत्ति में कम से कम 6 महीने का वक्त होना चाहिए. राकेश अस्थाना को बालाजी श्रीवास्तव की जगह कमिश्नर बनाया गया था.

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।