Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

चंडीगढ़। पंजाब में आम आदमी पार्टी के एक सोशल मीडिया पोस्ट पर बवाल मच गया है. हालांकि अपनी गलती पता चलते ही आप ने उस पोस्ट को डिलीट कर दिया है. दरअसल आम आदमी पार्टी ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष इकबाल सिंह लालपुरा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा दिए. अब जैसे ही लालपुरा को अपने ऊपर लगाए गए आरोप का पता चला, तो वे भड़क गए. कड़ी आपत्ति लेते हुए उन्होंने AAP को मानहानि का नोटिस भेजा दिया. उन्होंने दिल्ली सीएम और आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और पंजाब सीएम भगवंत मान से सार्वजनिक माफी मांगने को कहा है.

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन इकबाल सिंह लालपुरा

ये भी पढ़ें: पंजाब में AAP सरकार बनने के बाद से अब तक 28 केस दर्ज, 45 गिरफ्तारियां, मंत्री और पूर्व मंत्री भी गिरफ्त में

आप ने थोड़ी देर बाद हटाया पोस्ट

बता दें कि आप पंजाब ने सोशल मीडिया पेज पर पोस्ट डाली थी, जिसमें उन्होंने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन इकबाल सिंह लालपुरा को भ्रष्टचारी बता दिया. हालांकि पोस्ट डालते ही उन्हें गलती का पता चला. कुछ मिनट बाद इस पोस्ट को हटा दिया गया, लेकिन तब तक इसके स्क्रीनशॉट लिए जा चुके थे. आम आदमी पार्टी ने अपने पोस्ट में सीएम भगवंत मान की बड़ी फोटो लगाई. इसे ‘मान सरकार में सारे भ्रष्टाचारी पकड़े जाएंगे’ के हेडिंग से बनाया गया. इसमें वन विभाग में भ्रष्टाचार के आरोप में पकड़े पूर्व कांग्रेसी मंत्री साधु सिंह धर्मसोत, इसी केस में नामजद संगत सिंह गिलजियां और अवैध खनन में गिरफ्तार हुए पूर्व कांग्रेसी विधाायक जोगिंदरपाल भोआ की तस्वीर है. इसी में चौथे नंबर पर लालपुरा की तस्वीर लगा दी गई. उन्हें पूर्व कांग्रेसी वन मंत्री बताते हुए पेड़ों की अवैध कटाई का आरोप बताया गया.

फाइल फोटो

इकबाल सिंह लालपुरा की लीगल टीम ने भेजा नोटिस

इधर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन इकबाल सिंह लालपुरा की लीगल टीम ने नोटिस भेजा है, जिसमें कहा कि जानबूझकर गलत मकसद से अफवाह फैलाई गई. इस पोस्ट में लालपुरा को सबसे भ्रष्ट बताते हुए उनकी फोटो पर गिरफ्तारी की मुहर लगाई गई थी.

ये भी पढ़ें: पिछली कांग्रेस सरकार में डिप्टी CM रहे ओपी सोनी से 20 लाख फिरौती की मांग, जान से मारने की भी मिली धमकी

पूर्व IPS अफसर लालपुरा को मिल चुका है राष्ट्रपति पुलिस पदक

नोटिस में कहा गया कि इकबाल सिंह लालपुरा IPS अधिकारी रह चुके हैं. वे अमृतसर और तरनतारन में SSP रहे. CID अमृतसर के AIG रहे. 1972 से लेकर अब तक की लाइफ में उन पर कोई दाग नहीं है. उन्हें 75 से ज्यादा प्रशंसा और अवॉर्ड मिल चुके हैं. वह आतंकवाद के दौर में भी एक्टिव अफसर रहे. उन्हें राष्ट्रपति पुलिस पदक भी मिल चुका है. लालपुरा ने कहा कि 48 घंटे के अंदर AAP माफी मांगकर स्पष्टीकरण जारी करे, ऐसा न हुआ तो वह कानूनी कार्रवाई करेंगे.