रक्षाबंधन को लेकर बाजारों में लौटी रौनक, रंग-बिरंगी स्वदेशी राखियां खरीदने लोगों ने दिखाई दिलचस्पी

सुप्रिया पांडे,रायपुर। राजधानी में जारी कोरोना लॉकडाउन की बीच दो दिन राखी की दुकानों की खोलने की अनुमति दी गई है. भाई-बहन के अटूट रिश्तों का प्रतीक रक्षाबंधन पर्व के लिए राखी की दुकानें तड़के सुबह से 10 बजे तक खोली गईं. छत्तीसगढ़ स्वसहायता समूह की महिलाओं द्वारा तैयार की गई राखियों से बाजार गुलजार हो उड़ा है. स्टॉल में रंग बिरंगी स्वदेशी राखियां नजर आईं. कुछ देर के लिए ही सही, लेकिन खरीदारी बढ़ने से बाजारों की रौनक दिखाई दी. लोग भी चीनी सामान के बहिष्कार के साथ ही बाजार में देशी राखियां खरीद रहे है. राखियों को लेकर ग्राहकों ने भी खुशी जाहिर की और कहा कि सही दाम पर राखियां बेची जा रही है.

स्वसहायता समूह की महिलाओं का कहना है कि बड़ी मेहनत से राखियां तैयार की गई है. गेंहू, धान, फलों और सब्जियों की बीजों से राखियां निर्मित की गई है. जिसमें काफी समय लगा है. जिला प्रशासन की तरफ से दो दिनों की छूट दी गई है. इस अवसर पर हमने भी स्टाल लगाया है और राखियां बेची जा रही है.

राजधानी: लॉकडाउन में छूट मिलते ही बाजारों में उमड़ी भीड़, दुकानों के बाहर दिखी लंबी कतार, सड़क पर लगा जाम, देखें VIDEO 

खरीददारों का कहना है कि काफी अच्छी-अच्छी और खूबसूरत राखियां मिल रही है. हमने कभी सोचा नहीं था कि इस तरह की राखियां मिल रही है. आज लॉकडाउन के दौरान जो छूट दी गई है. उस दौरान हम आज बाजार में मौजूद है और राखियां खरीद रहे हैं. दूसरे खरीददार का कहना है कि हमने पहली बार देशी राखियां खरीदी है. हम इससे पहले चाइना राखी खरीदते थे, लेकिन ये राखियां काफी खूबसूरत है. इन राखियों में मौजूद बीज से पर्यावरण को भी लाभ होगा.

loading...

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।