whatsapp

रविंद्र जड़ेजा VS अनिरुद्ध जड़ेजाः चुनावी पिच पर जड़ेजा और उनके पिता आमने-सामने, बहू को वोट ना देने की अपील, बहन ने भाभी की जाति पर दागा सवाल…

गुजरात में 2 चरणों में 1 और 5 दिसंबर को मतदान होना है. गुजरात विधानसभा चुनाव में क्रिकेटर रविंद्र जड़ेजा की पत्नी रिवाबा जड़ेजा गुजरात की जामनगर उत्तर सीट से बीजेपी की ओर से अपनी किस्मत आजमा रही हैं. ऐसे में क्रिकेटर रविंद्र जड़ेजा और उनके पिता अनिरुद्ध सिंह जड़ेजा चुनावी पिच में आमने-सामने हैं. जहां एक ओर जड़ेजा अपनी पत्नी को जितवाने के लिए प्रचार कर रहे हैं. वहीं जड़ेजा के पिता बहू को वोट ना देने की अपील कर रहे हैं.

बता दें कि, एक वीडियो के जरिए रविंद्र जड़ेजा के पिता अनिरुद्ध सिंह जड़ेजा अपील करते नजर आ रहे हैं, जिसमें वे कह रहे हैं कि, मैं अनिरुद्ध सिंह जड़ेजा कांग्रेस उम्मीदवार बिपेंद्र सिंह जड़ेजा को वोट देने की अपील कर रहा हूं. वह मेरे छोटे भाई की तरह हैं. मैं विशेष रूप से राजपूत मतदाताओं से भूपेंद्र सिंह को वोट देने की अपील करता हूं.

जानकारी के अनुसार, कहा जा रहा है कि जिस सीट पर जड़ेजा की पत्नी चुनाव लड़ रही हैं, उसी सीट पर रवींद्र जडेजा की बहन नयनाबा जड़ेजा भी कांग्रेस की ओर से चुनाव लड़ने की इच्छुक थीं. हालांकि वह कांग्रेस पैनल की सूची में थीं, लेकिन जब बीजेपी ने रिवाबा जड़ेजा के नाम की घोषणा की तो, कांग्रेस ने नयनाबा को हटा दिया और बिपेंद्र सिंह को नामित किया. नयनाबा आक्रामक तरीके से कांग्रेस प्रत्याशी के लिए प्रचार कर रही हैं और अपनी भाभी पर सियासी हमले करने से भी नहीं हिचक रही हैं.

इतना ही नहीं नयनाबा ने अपनी भाभी रिवाबा जड़ेजा पर बच्चों के साथ चुनाव प्रचार करने का आरोप लगाया था. नयनाबा ने पिछले सप्ताह एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था, वह सहानुभूति हासिल करने के लिए बच्चों के साथ प्रचार कर रही हैं, क्योंकि बच्चों का उपयोग करना बाल श्रम माना जाता है, कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने रिवाबा के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई. 

वहीं नयनाबा ने रिवाबा की आलोचना करते हुए उनकी जाति पर भी संदेह जताया. नयनाबा के अनुसार, रिवाबा के नामांकन पत्र में उनका नाम रीवा सिंह हरदेव सिंह सोलंकी लिखा हुआ था. इसमें रविंद्र जड़ेजा का नाम कोष्ठक में लिखा गया है. नयनाबा ने दावा किया कि वह शो के लिए रविंद्र जड़ेजा के उपनाम का उपयोग कर रही हैं, इस तथ्य के बावजूद कि उनकी शादी को 6 साल हो चुके हैं और रिवाबा ने अभी तक अपना उपनाम नहीं बदला है.

Related Articles

Back to top button