Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा घोषित बालवाड़ी कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए राज्य स्तरीय कार्यशाला का आयोजन एससीईआरटी (SCERT) में हुई. कार्यशाला के उद्घाटन सत्र को स्कूल शिक्षा विभाग के विशेष सचिव और एससीईआरटी के संचालक राजेश सिंह राणा संबोधित किया.

यह कार्यक्रम महिला एवं बाल विकास विभाग और स्कूल शिक्षा विभाग के समन्वय से आयोजित किया गया था. टास्क फोर्स कमेटी में यह निर्णय लिया गया है कि बालवाड़ी कार्यक्रम का संचालन आंगनबाड़ी में किया जाएगा.

इसी सत्र में होना है क्रियान्वयन

राजेश राणा ने आगे कहा कि देश के ख्याति प्राप्त विषय विशेषज्ञों की उपस्थिति में दो दिवसीय कार्यशाला में दिए गए सुझाव के अनुरूप ऐसी सामग्री तैयार की जा रही है, जो बालवाड़ी के बच्चों के लिए व्यवहारिक होगी. तीन दिनों तक इस योजना को कैसे क्रियान्वित करना है इसके बारे में भी बताया जाएगा. उन्होंने आगे कहा कि बालवाड़ी का क्रियान्वयन इसी सत्र में किया जाना है. इसलिए 15 जून तक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और बालवाड़ी के शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाना है.

बच्चों को सीखने का अवसर जरूर प्राप्त हो- डॉ. योगेश

अतिरिक्त संचालक डॉ. योगेश शिवहरे ने अपने उद्बोधन में क्रियान्वयन के लिए टास्क फोर्स के निर्णय के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि बच्चों को किस प्रकार बालवाड़ी तक लाया जाए और इसे इतना आकर्षक बनाया जाए कि बच्चों को 21वीं सदी के लिए तैयार किया जा सके, इस संबंध में बच्चों को समझाया जाएगा. हमारी ये कोशिश रहेगी कि उन्हें सही दिशा में सीखने का अवसर जरूर प्राप्त हो. एससीईआरटी द्वारा बालवाड़ी कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए प्रत्येक जिले से महिला बाल विकास विभाग के दो सुपरवाइजर और समग्र शिक्षा एपीसी और डाइट के प्रतिनिधि उपस्थित हुए.

अन्य अतिथि रहे उपस्थित

उद्घाटन सत्र को एससीईआरटी के अतिरिक्त संचालक डॉ. योगेश शिवहरे, बालवाड़ी के राज्य समन्वयक प्रशांत कुमार पाण्डेय और प्रभारी सुनील मिश्रा सहित यूनिसेफ के शिक्षा विशेषज्ञ छाया कंवर, एसआरसी महिला बाल विकास के राजकुमार खाटी, आदित्य शर्मा ऋषि कुमार बंजारा ने भी संबोधित किया. इस कार्यक्रम में यूनिसेफ के अलावा आह्वान ट्रस्ट अजीम प्रेमजी फाउंडेशन और रूम टू रीड के प्रभारी उपस्थित थे.

इसे भी पढे़ं : पक्षियों के साथ पर्यटकों को आकर्षित करेगा छत्तीसगढ़ का ये पर्यटन स्थल, वन्यजीवों के लिए स्वर्ग से कम नहीं होगी ये जगह, बोर्ड मेम्बर अरुण पांडेय ने लिया जायजा …