Advertise at Lalluram

मंत्री जी का मौखिक आदेश विभाग के लिखित आदेश पर पड़ा भारी

CG Tourism Ad

पुरुषोत्तम पात्र, गरियाबंद। गरियाबंद में मंत्री केदार कश्यप का मौखिक आदेश उनके विभाग के लिखित आदेश पर भारी पड़ गया.

फेसबुक पर हमें लाइक करें

दरअसल 14 अगस्त को छत्तीसगढ़ शिक्षा विभाग ने फिंगेश्वर विकासखंड के लोहरसी मिडिल स्कूल में पदस्थ शिक्षक धर्मेंद्र सिंह ठाकुर का ट्रांसफर शिक्षकों की कमी से जूझ रहे देवभोग विकासखंड के दीवानमुडा मिडिल स्कूल में कर दिया.

जिसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने 21 अगस्त को लोहरसी स्कूल के प्रधानपाठक को पत्र लिखकर शिक्षक को जल्द से जल्द कार्यमुक्त करने का निर्देश दिया था.

ADVERTISEMENT
cg-samvad-small Ad

प्रधानपाठक ने आदेश का पालन करते हुए 21 सितंबर को शिक्षक को कार्यमुक्त कर दिया, लेकिन उसके बाद 27 सितंबर को जिला शिक्षा अधिकारी ने प्रधानपाठक के नाम पत्र लिखकर शिक्षक को यथावत रखने के निर्देश दिए. शिक्षक धर्मेंद्र सिंह ठाकुर अभी भी लोहरसी में ही अपनी सेवाएं दे रहे हैं.

मामले का खुलासा तब हुआ, जब लोहरसी से कार्यमुक्त होने के बाद भी शिक्षक ने दीवानमुडा स्कूल में ज्वॉइन नहीं किया. पालकों और बीईओ ने जब इस बारे में पता किया, तो पता चला कि शिक्षक दीवानमुडा के बजाय लोहरसी में ही अपनी सेवाएं देगा.

मीडिया ने जब इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी से बात की, तो उऩ्होंने कैमरे के सामने तो कुछ नहीं बोला, लेकिन उनका कहना था कि स्कूल शिक्षा मंत्री के आदेश को वे कैसे टाल सकते हैं. उनका कहना था कि मंत्री केदार कश्यप ने मौखिक आदेश देकर स्थानांतरण रोकने के लिए कहा है.

अब आदेश का खामियाजा दीवानमुडा मिडिल स्कूल के छात्रों को उठाना पड़ रहा है. यहां पढ़ने वाले 104 बच्चों को फिलहाल एक ही शिक्षक से काम चलाना पडेगा.

 

ADVERTISEMENT
diabetes Day Badshah Ad
Advertisement