Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

दिल्ली. अपने माता-पिता की नियमित डांट से बचने के लिए अपने प्रेमी के साथ ‘नई जिंदगी’ शुरू करने के लिए घर से भागी 13 साल की बच्ची को करीब 10 महीने बाद आखिरकार दिल्ली पुलिस ने छुड़ा लिया है. एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है. किशोरी को तमिलनाडु के कोयंबटूर से बचाया गया, जहां वह अपने प्रेमी के साथ रह रही थी.

बता दें कि आरोपी प्रेमी की पहचान नीरज के रूप में हुई, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और पॉक्सो अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत आरोप लगाया है. पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) विचित्रवीर सिंह ने विवरण देते हुए कहा कि लड़की पिछले साल अक्टूबर में दिल्ली के फतेहपुर बेरी से लापता हो गई थी. जिसके बाद पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज किया था.

इसे भी पढ़ें – इधर उद्वव ने किया शिवसेना से बाहर, उधर शिंदे बागी विधायकों को लाने गोवा चले, कल से शुरू होगी अग्निपरीक्षा…

दिल्ली हाई कोर्ट ने जून में एक रिट याचिका पर सुनवाई करते हुए मामले की जांच क्राइम ब्रांच की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट (एएचटीयू) को ट्रांसफर कर दी थी. इसके बाद पुलिस की टीम गठित कर मामले की जांच शुरू की गई. 18 दिनों के भीतर, मैनुअल और तकनीकी निगरानी ने कोयंबटूर में लड़की के स्थान का पता लगाया.

इसे भी पढ़ें – बढ़ी मुसीबत, गोंदिया-बरौनी एक्सप्रेस सहित 18 ट्रेनों का परिचालन रेलवे ने किया स्थगित, जानिए क्या है वजह...

डीसीपी के अनुसार, जांच के दौरान यह पता चला कि लापता लड़की के माता-पिता उसे छोटी-छोटी बातों पर डांट लगाते थे और 12 अक्टूबर, 2021 को किशोर अपने प्रेमी नीरज के साथ घर से निकल गई, जो उसी इलाके में रहता था. डीसीपी ने कहा, “लापता लड़की को शादी के लिए लुभाकर, नीरज पहले उसे बिहार के अपने गांव और फिर कोयंबटूर ले गया.”