Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

दीपक कौरव, नरसिंहपुर। 6 साल की मासूम पर अब दो परिवारों की ममता उमड़ रही है। इनमें से एक वो है जिसके यहां बच्ची होश संभालने के समय से रह रही है। वहीं दूसरा परिवार वो है, जो बच्ची पर अपना हक जताते हुए दावा ठोक रहा है। बच्ची की इस जंग में मामला सपी के पास से होते हुए बाल संरक्षण समिति के पास पहुंच गया। समिति ने दोनों परिवारों को अपने-अपने साक्ष्य देने के लिए कहा गया है। फिलहाल बच्ची बाल संरक्षण गृह में अपना समय काट रही है।

इसे भी पढ़ेः एमपी कोरोना LIVE: पिछले 24 घंटे में 8 की मौत, इंदौर के 21 मरीजों में ओमिक्रॉन के नए वैरिएंट की हुई पुष्टि, एक्टिव केस 72 हजार के पास 

दरअसल महिला और उसके पति का दावा है कि यह बच्ची उनकी है। जन्म के समय मासूम दिव्यांग थी। महिला ने कहा कि स्टेशन में रहने वाले परिवार ने बच्ची को ठीक करने का दावा किया। इसके बाद हमने बच्ची को तीन साल पहले बुजुर्ग को दे दिया था। महिला ने दावा किया कि इस दौरान इलाज के लिए 50 हजार रुपए भी दे चुकी है। हिला का कहना है कि अब जब बेटी ठीक हो गयी तो उसे ये परिवार के लोग वापस नही कर रहे हैं।

दावा करने वाले दंपती ने स्टेशन गंज पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई तो उसके बाद महिला ने एसपी के यहां आवेदन दिया है। मामला जांच के बीच है जो आने वाले दिनों में साफ होगा।

इसे भी पढ़ेः ‘मामा’ का चाइनीज तड़काः सीएम शिवराज चौपाटी पहुंचे, मंचूरियन, फ्राइड राइस, पनीर चिल्ली और चाऊमीन खाया, फालूदा और काजू बर्फी का भी चखा स्वाद, देखिए VIDEO 

वहीं दूसरी तरफ बच्ची को पाल रहे बुजुर्ग ने कहा कि ये बिटिया उसके ट्रेन मेंं दातुन बेचने वाले बेटे की है। बच्ची का जन्म जबलपुर में हुआ था। वृद्ध का आरोप है कि महिला जो दस्तावेज बता रही है वे सब गलत है। जबकि जिस होटल में वृद्ध सालों से काम कर रहा है उसके मालिक से लेकर मोहल्ले वाले सभी वृद्ध के साथ हैं।

डीएनए टेस्ट से हो सकता है फैसला 

फिलहाल पेचीदगी से भरा सारा मामला अब बाल संरक्षण समिति के पास है। इसे कर महिला बाल विकास अधिकारी मोहनी जाधव का कहना है कि सभी गवाह और सबूत सुने और देखे जा रहे हैं।  बेटी विभाग के पास सुरक्षित और स्वस्थ है। आईने वाले समय में जरूरत पड़ी तो डीएनए टेस्ट भी कराया जा सकता है।

इसे भी पढ़ेः MP में पंचायत चुनाव: आज हाईकोर्ट में अहम सुनवाई, कांग्रेस नेत्री जया ठाकुर ने जल्दी चुनाव करवाने की लगाई है याचिका

मासूम बुजुर्ग के साथ रहना चाहती है 

एक तरफ एक परिवार की महिला दस्तावेजों के साथ अपना दावा कर रही है तो दूसरी ओर लोगों की दूसरे परिवार के युवक के पक्ष में गवाही है। हालांकि बेटी वृद्ध के परिवार के साथ रहना चाहती है। फिलहाल मामला आने वाले दिनों में ही साफ हो पाएगा। इस महिला की यह बात गौर करने लायक है कि अगर बेटी उसकी है तो आखिरकार कोई मां तीन सालों से कैसे अपनी बेटी किसी परिवार के भरोसे छोड़ सकती है.. ? हम तो यही चाहेंगे कि जल्द मासूम की परीक्षा पूरी हो और उसे अपनों का साथ नसीब हो।

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

">
Share: