विधानसभा : प्रदेश में बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर पेश स्थगन प्रस्ताव के अग्राह्य होने पर गर्भगृह में उतरा विपक्ष, आसंदी ने किया निलंबित…

रायपुर। विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर बीजेपी और जेसीसी ने स्थगन प्रस्ताव पेश किया. ग्राह्यता पर चर्चा के बाद आसंदी ने स्थगन प्रस्ताव अग्राह्य किया, जिसके विरोध में विपक्षी सदस्य गर्भगृह उतरकर नारेबाजी करने लगे. आसंदी ने गर्भगृह में उतरने पर विपक्षी सदस्यों को निलम्बित किया.

Close Button

इससे पहले ग्राह्यता के लिए सदन में चर्चा हुई. बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ अपराधों की आग से जल रहा है. यहाँ कभी मफ़ियाओं का राज नहीं था. यह शांति का टापू था. चाकूबजी, अपहरण की घटनाएँ बढ़ गई हैं. छत्तीसगढ़ में कभी ऐसे अपराध नहीं हुए. कांग्रेस के विधायक गृहमंत्री की वर्चुअल बैठक में कहते है कि थाने में रेट लिस्ट लगा दीजिए. आज छत्तीसगढ़ को क्या बनाने जा रहे हैं. आज छत्तीसगढ़ में लोग ग़लत तरीक़े से काम करने में लगे हैं. छत्तीसगढ़ में अपराध की खबरों से अख़बार पटा रहता है. मैं पूरे मंत्रिमंडल से कहना चाहता हूँ कि राज्य में कभी माफिया पनपने नहीं दी गई.

उन्होंने कहा कि राज्य की दुकानों में उड़ीसा, मध्यप्रदेश का अवैध शराब बिक रहा है. अरुणाचल प्रदेश से अवैध शराब यहाँ पहुँच रही है. वीआईपी रोड अपराध का अड्डा बन गया है. पूरी पुलिस जुआँ के मामलों में ही लगी है. पुलिस के संरक्षण में वेश्यावृत्ति चल रही है. जुएँ के अड्डे चल रहे हैं. रेत माफिया क्या कर रहे हैं, ये अख़बार में रोज़ छपता है. क्या सरकार के मंत्री इसे पढ़ते हैं. सरकार का एक इकबाल होता है. पुलिस के जूतों की धमक होती है. मैं रात में घूमता हूँ, मुझे पुलिस की पेट्रोलिंग नहीं दिखती. पूरे छत्तीसगढ़ में माफिया तैयार हो रहे हैं. विधायकों की कालोनी में चोरी हो जाती है. कौन सुरक्षित है यहाँ?

भाजपा सदस्य ने कहा कि छत्तीसगढ़ में पिता और बेटी को पत्थर से कुचल कर मार दिया गया. राज्य में ऐसी घटनाएँ नहीं होती थी. थाने में दादागिरी कर अपराधियों को छुड़ा दिया जा रहा है. पुलिस का मनोबल गिर रहा है. छत्तीसगढ़ से गाँजे की तस्करी क्यूँ बढ़ गई है. 2020 में रायपुर में 75 हत्या हो जाती है. सरकार की नाक के नीचे यदि राजधानी में ये हो रहा है तो प्रदेश का क्या हाल होगा. बच्चों के साथ होने वाले अपराधों में छत्तीसगढ़ टॉप 10 राज्यों में शामिल है. मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र खुड़मुड़ा में चार लोगों की हत्या हो गई और तीन महीने से अधिक वक़्त हो गया लेकिन अब तक अपराधी पकड़ से बाहर है.

अजय चंद्राकर ने कहा कि गाजर-मूली की तरह लोग काटे जा रहे हैं. लगता है अपराधियों को सरकारी संरक्षण दिया जा रहा है. पुलिस अनियंत्रित है. कल्याणकारी राज्य की धारणा भंग हो गई है. संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे के क्षेत्र में शराब की अवैध भट्टी पकड़ी गई है. गड़बो नवा छत्तीसगढ़ में सिर्फ़ अपराध दिखेगा. ठेके पर शासन चल रहा है. एसपी-कलेक्टर की नियुक्ति भी ठेके पर चल रही है.

उन्होंने कहा कि कोरिया से रायगढ़ तक वसूली का लक्ष्य दिया गया है, अवैध शराब बेचने नहीं देने पर डिमोट किए जाने की धमकी दी जाती है. डीजीपी के पास स्वतंत्रता कितनी है. उसके नीचे एक डीजीपी बैठा है. समानांतर व्यवस्था चलेगी तो अपराध कम कैसे होगा. टूटते हुए सपनों का राज्य बन गया. हत्या, वसूली सरकारी संरक्षण में हो रही है. गृहमंत्री कहते हैं कि संस्कार की कमी होती है इसलिए अपराध बढ़ते है. इनके पास धर्मस्व भी है. अब ख़ुदमुड़ा की घटना को लेकर भागवत कराइए.

भाजपा सदस्य शिवरतन शर्मा ने चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि प्रदेश में क़ानून व्यवस्था लचर हो गई है. मुख्यमंत्री निवास के सामने अपराध हो रहा है. अपराधी वीडियो बनाकर उसे वायरल कर रहे हैं. चाकूबाज़ी, बलात्कार, हत्या जैसी घटनाएँ बढ़ रही है. क़ानून का डर ख़त्म हो गया है. मुख्यमंत्री की मौजूदगी में कांग्रेस के विधायक शैलेष पांडेय का कालर पकड़ा जाता है. डीपी धृतलहरे की बहू और पोती की हत्या हो गई. खुड़मुड़ा की घटना के आरोपी अब तक नहीं पकड़े गए. पत्रकारों के खिलाफ लगातार घटनायें हो रही है. सात बार एक बेटी बिकती रही, उसका आवेदन पुलिस के पास पड़ा रहा, आख़िरकार उसे आत्महत्या करना पड़ा. रेत माफिया, कोल माफिया भी अपराध की जड़ में हैं.

डाक्टर रमन सिंह ने कहा कि दो वर्षों में हत्या, बलात्कार, लूट जैसी घटनाओं के 17 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आए हैं. राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कहलाने वाले पहाड़ी कोरवा जाति के लोगों की हत्या की जा रही है. मानपुर में माओवादियों ने लिस्ट बनाकर टांग दिया. पुलिस को नोटिस चस्पाँ करके कहना पड़ रहा है कि यदि आप सुरक्षित रहना चाहते हैं तो घर छोड़कर चले जाइए. दंतेवाड़ा, सुकमा जैसी जगहों पर भी ऐसे हालात कभी नहीं बने.

मो. अकबर ने टिप्पणी करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के इतिहास में इससे बड़ी घटना नहीं हुई है. रमन सिंह ने कहा कि आज प्रदेश का ये हाल है कि अपराधों का ज़िक्र झीरम के साथ हो रहा है. इस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि झीरम को लेकर हमने एसआईटी बनाई. केंद्र सरकार की एनआईए सुप्रीम कोर्ट चली गई. आख़िर क्या छिपाना चाहते हैं, आख़िर क्यूँ है इतनी पर्देदारी? हम आज भी माँग कर रहे हैं कि इसकी जाँच हमें दे दी जाए.

नारायण चंदेल ने कहा कि प्रशासन का राजनीतिकरण हो गया है. बस्तर से सरगुज़ा तक नए नए अपराध हो रहे है. जेसीसी विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह ने कहा कि, अपराधियों में क़ानून का ख़ौफ़ नहीं है. अपराधगढ़ बनाने से रोकने के लिए यह चर्चा ज़रूरी है. इससे सरकार का ही भला होगा. गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि विकसित समाज में क़ानून व्यवस्था की भूमिका महत्वपूर्ण होती है. राज्य में क़ानून व्यवस्था गर्त में चली गई है, ये कहना ठीक नहीं है. पुलिस संवेदनशील है. जितने मामलों की चर्चा की गई. उनमें से ज़्यादातर मामलों में पुलिस ने अपराधियों पर कार्रवाई की है.

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।