Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

CG NEWS: बलौदाबाजार. कलेक्टर रजत बंसल के निर्देश पर कृषि विभाग द्वारा खाद दुकानों में लगातार छापेमारी की कार्रवाई जारी है. जिसके तहत आज विकासखंड बिलाईगढ़ अंतर्गत भटगांव नगर के 3 खाद दुकान सील किए गए. भटगांव क्षेत्र से उर्वरक अधिक दर पर बेचने की शिकायत मिल रही थी. जिसके जांच के लिए स्थानीय उर्वरक निरीक्षक के उपस्थिति में जिला स्तरीय निरीक्षण दल द्वारा छापेमारी की कारवाई की गई.

बता दें कि, भटगांव के स्थानीय कृषकों से संपर्क करने के बाद मेसर्स प्रमोद कृषि केंद्र भटगांव का निरीक्षण किया. निरीक्षण में विक्रेता द्वारा अधिक दाम पर उर्वरक बेचने के साथ ही कृषकों को बिल नहीं दिया गया. इसी प्रकार मेसर्स राहुल हार्डवेयर, भटगांव और मेसर्स पुष्पराज केशरवानी में निरीक्षण के दौरान निर्धारित प्रपत्र में बिल बुक (फॉर्म एम) संधारित किया जाना नहीं पाया गया. जिसके बाद तत्काल कार्रवाई करते हुए तीनों विक्रय केंद्रों को सील कर तीन दिन के भीतर स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. जवाब मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

वहीं पहले भी छापेमारी के दौरान विकासखंड बलौदाबाजार के मेसर्स महादेव एंड खाद, लाहोद तथा मेसर्स न्यू किसान ट्रेडर्स, अर्जुनी के द्वारा भी निर्धारित मूल्य से अधिक दर पर उर्वरक बेचते पाए जाने पर गोदाम सील कर उर्वरक प्राधिकार पत्र निलंबित किया गया. विकासखंड भाटापारा में ग्राम बोरसी में यदुनंदन कृषि सेवा केंद्र द्वारा केसीसी के माध्यम से प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति से उर्वरक लेकर अपने निजी केंद्र से अधिक दर पर कृषकों को खाद बेचते पाया गया था. जिस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए मौके पर उपलब्ध 50 बोरी उर्वरक जब्त कर नोटिस जारी किया गया. ग्राम करही बाजार में महामाया कृषि केंद्र द्वारा भी उर्वरक निर्धारित मूल्य से अधिक दर पर विक्रय करने के कारण गोदाम सील कर कारण बताओ नोटिस की जारी किया गया है.

कृषि विभाग द्वारा जमाखोरी और कालाबाजरी को रोकने के उद्देश्य से नियमित रूप से निरीक्षण और छापेमार की कार्रवाई की जा रही है. विक्रेताओं को नियमानुसार ही उर्वरक विक्रय करने के लिए चेतावनी भी दी जा रही है. निरीक्षण दल में सहायक संचालक सतराम पैकरा, एस.डी.ओ. जय इंद्र कंवर, उर्वरक निरीक्षक एल.पी.देवांगन, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी सीमांचल गौड़ शामिल थे.