विश्व रक्तदाता दिवस आज, कोविड-19 महामारी के दौरान रक्तदान का ये है महत्व…

दिल्ली. हर साल 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने के पीछे विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुख्य उद्देश्य लोगों को रक्त का दान करने के प्रेरित करना है. विश्व रक्तदाता दिवस के इस दिन वैश्विक स्वास्थ्य समुदाय आम जनता को उनके कर्तव्य को याद दिलाने के लिए एक जुट हो जाता है.

कोरोना महामारी के दौरान रक्तदान का महत्व एक बार फिर से काफी ज्यादा बढ़ गया है. इस महामारी के दौरान कई चुनौतियों के बावजूद भी कई देशों समेत विशेष रूप से भारत में रक्तदाताओं ने उन रोगियों को रक्त और प्लाज्मा दान करना जारी रखा, जिन्हें जिने के लिए रक्त की ज्यादा जरूरत थी.

बता दें कि पिछले महीने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने द लैंसेट के रिकवरी क्लिनिकल परीक्षण के परिणाम सामने आने के बाद से प्लाजमा थेरेपी को हटा दिया है. दरअसल मेडिकल जर्नल ने बताया कि ज्यादा मात्रा में एंटीबॉडी के साथ प्लाज्मा थेरेपी मिलने पर कोरोना के मरीजों की जान को खतरा हो रहा था. वहीं WHO ने लोगों से कहा कि रक्तदान करना चाहिए, क्योंकि ये नेक काम है’.

इसे भी पढ़ें- Ranbir की सलाह से अगले दिन ही हो गया Arjun Kapoor का ब्रेकअप, दी थी ये राय…

रक्तदान जरूरी है

बता दें कि कोरोना काल में स्वास्थ्य सेवा का बुनियादी ढांचा कोविड के मामलों से भरा पड़ा है. तब थैलेसीमिया, एनीमिया और रक्त संबंधी अन्य बीमारियों को दूर करने के लिए रोगियों को रक्तदान की चिकित्सा सेवा लेना जरूरी है. वहीं, महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान भी ज्यादा खून की जरूरत होती है, जिसकी पूर्ति रक्तदान से की जाती है.

WHO ने साल 2021 में दुनिया भर में रक्तदाताओं की इस असाधारण सेवा को उजागर करने के लिए ‘रक्त दो और दुनिया को हराते रहो’ का नारा जारी किया है. इस चिकित्सा संकट के समय में ये जरूरी प्रयास सामान्य और इमर्जेंसी के समय में एक सुरक्षित और पर्याप्त रक्त आपूर्ति सुनिश्चित करने में सुव्यवस्थित, प्रतिबद्ध, स्वैच्छिक रहेंगे.

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।