गुजरात के बाद छत्तीसगढ़ में भी विकास हुआ पागल, लेकिन यहां, पढ़िए पूरी खबर

रायपुर। भाजपा सरकार के प्रदेश में 14 साल पूरे होने की उपलब्धियों की कड़ी में मंत्री राजेश मूणत के विभाग पीडब्लूडी की बारी थी. मूणत द्वारा गिनाई गई उपलब्धियों के जवाब में कांग्रेस ने तीखा हमला करते हुए कहा है कि 14 साल में पीडब्ल्यूडी में विकास पागल हो गया है. पूर्व मंत्री रविन्द्र चौबे ने प्रेसवार्ता लेते हुए विभाग में कमीशनखोरी का गंभीर आरोप लगाया है.

पूर्व मंत्री ने कहा कि पीडब्लूडी में बगैर कमीशन के कोई भी काम नहीं होता, पीडब्लूडी के ठेकेदारों की पहुंच सीएम हाउस तक है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा सीएम के निर्वाचन क्षेत्र राजनांदगांव में फ्लाई ओवर का डिजाइन हर साल बदल जाता है. एक ही सड़क का तीन बार निर्माण होता है. ऑनलाइन टेंडर में भी जमकर भ्रष्टाचार होता है. बिलासपुर में निर्माणाधीन पुल ढह जाता है तो वहीं राजधानी रायपुर में सर्किट हाउस का स्लैब गिर जाता है.

उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में सड़क निर्माण की गुणवत्ता की जांच के लिए कोई नीति नहीं है. चिल्फी से सिमगा तक सड़क निर्माण में भारी भ्रष्टाचार हुआ है. 1000 हजार जगह में मरम्मत कार्य अभी से शुरू हो गया है.
उन्होंने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के करीबी को छत्तीसगढ़ में सड़क निर्माण का ठेका दिया गया है.

प्रदूषित शहरों में रायपुर की गिनती दिल्ली के बराबर है यहां औद्योगिक इलाकों में पर्यावरण नियंत्रित नहीं है. बड़े कारखानों पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है जो पर्यावरण को हानि पहुंचा रहे हैं जिनकी वजह से प्रदूषण में लगातार इजाफा हो रहा है. आवास निर्माण में गुणवत्ताहीन काम हो रहा है. प्रदेश की सभी नदियां प्रदूषित हो गई है. प्रदेश में विकास नहीं सिर्फ भ्रष्टाचार हुआ है.14 साल बेमिसाल नहीं, बदहाल छत्तीसगढ़ है.

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार बने 14 साल पूरे हो गए हैं जिसके उपलक्ष्य में सरकार का हर मंत्री प्रतिदिन प्रेसवार्ता लेकर अपने-अपने विभाग की उपलब्धियों को गिना रहा है वहीं कांग्रेस सरकार के मंत्रियों और उनके विभागों की कमियां गिनाते हुए उनकी पोल खोल रही है.

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।