राज्य में धान खरीदी का आंकड़ा 8.66 लाख मीटरिक टन के पार, ढाई लाख से अधिक किसानों को 1306.72 करोड़ रूपए जारी

सर्वाधिक 95,208 मीटरिक टन धान खरीदकर राजनांदगांव जिला पहले पायदान पर

रायपुर. राज्य में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 के लिए एक दिसंबर से शुरू हुए धान खरीदी के बीते सात दिनों में आज शाम साढ़े 7 बजे तक 2 लाख 62 हजार 466 किसानों से 08 लाख 65 हजार 735 मीटरिक टन धान की समर्थन मूल्य पर खरीदी की गई है. किसानों से 2476 धान उपार्जन केन्द्रों के माध्यम से धान खरीदी की जा रही है. खरीदी के पश्चात् बैंक लिकिंग व्यवस्था के तहत इन किसानों को 1306 करोड़ 72 लाख रूपए की राशि मार्कफेड द्वारा अपैक्स बैंक को भुगतान के लिए जारी किया गया है.

धान खरीदी के सातवें दिन भी राजनांदगांव जिला प्रदेश में पहले पायदान पर है. राजनांदगांव जिले में 95208 मीटरिक टन धान की खरीदी हो चुकी है. वहीं अब तक की धान खरीदी में बलौदाबाजार जिला राज्य में दूसरे स्थान पर है. बलौदाबाजार जिला में 69,080 मीटिरिक टन धान की खरीदी हुई है. बेमेतरा जिला धान खरीदी के मामले में आज राज्य में तीसरे क्रम पर है. बेमेतरा जिला में 68,702 मीटरिक टन धान की खरीदी की गई है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर धान खरीदी के समनांतर धान उठाव एवं कस्टम मिलिंग कार्य भी निरंतर हो रहा है. 6 दिसम्बर को रायगढ़ जिले के आकांक्षा राइस मिल सरिया द्वारा मिलिंग के पश्चात प्रदेश में सर्वप्रथम 290 क्विंटल चावल का पहला लॉट एफसीआई को जमा कराया गया. इस तरह प्रदेश में धान खरीदी के साथ-साथ कस्टम मिलिंग कर राइस मिलर्स द्वारा केन्द्रीय पूल में चावल जमा कराने का सिलसिला शुरू हो गया है.

समर्थन मूल्य पर धान बेचने को लेकर किसानों में काफी उत्साह है. उपार्जन केन्द्रों में टोकन के आधार पर किसान धान बेचने के लिए पहुंच रहे है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार खरीदी केन्द्रों में किसानों की सहूलियत और धान खरीदी की व्यवस्था का जायजा लेने के लिए वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी लगातार केन्द्रों का दौरा कर रहे हैं. इस दौरान अधिकारियों द्वारा किसानों से धान खरीदी व्यवस्था के संबंध में चर्चा भी की जा रही है. किसानों ने धान खरीदी व्यवस्था को संतोषप्रद बताया और पुराने बारदाने की दर 25 रूपए किए जाने से प्रसन्नता व्यक्त करते हुए राज्य सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया.

खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार चालू विपणन वर्ष में राज्य के बस्तर जिले में 8,554 मीटरिक टन, बीजापुर जिले में 1535 मीटरिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 243 मीटरिक टन, कांकेर जिले में 24 हजार 462 मीटरिक टन, कोण्डागांव जिले में 15 हजार 404 मीटरिक टन, नारायणपुर जिले में 1433 मीटरिक टन, सुकमा जिले में 1038 मीटरिक टन, बिलासपुर जिले में 42,563 मीटरिक टन, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही 5318 मीटरिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 36,152 मीटरिक टन, कोरबा जिले में 6246 मीटरिक टन, मुंगेली जिले में 32,197 मीटरिक टन, रायगढ़ जिले में 38,929 मीटरिक टन, बालोद जिले में 63,861 मीटरिक टन, बेमेतरा जिले में 68,702 मीटरिक टन, दुर्ग जिले में 45,978 मीटरिक टन, कवर्धा में 48,735 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में 95,208 मीटरिक टन, बलौदाबाजार जिले में 69,080 मीटरिक टन, धमतरी जिले में 45,770 मीटरिक टन, गरियाबंद जिले में 33,894 मीटरिक टन, महासमुंद जिले में 62,245 मीटरिक टन, रायपुर जिले में 56,122 मीटरिक टन, बलरामपुर जिले में 10,969 मीटरिक टन, जशपुर जिले में 7048 मीटरिक टन, कोरिया जिले में 7640 मीटरिक टन, सरगुजा जिले में 14,774 मीटरिक टन और सूरजपुर जिले में 21,990 मीटरिक टन धान की खरीदी की जा चुकी है.

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!