हिंदू वोट बैंक पर नजर: पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ पर कांग्रेस खेलेगी दांव, मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी

चंडीगढ़। पंजाब में हिंदू वोट बैंक के हाथ से सरकने का डर कांग्रेस को सता रहा है. ऊपर से दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के दौरे ने ये टेंशन और अधिक बढ़ा दी है. साथ ही पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू भी सिख हैं. पंजाब कांग्रेस में सरकार से लेकर संगठन तक कोई मुख्य हिंदू नेता नजर नहीं आ रहा. ऐसे में पार्टी को अपना वोट बैंक खिसकने का डर सता रहा है. इसे देखते हुए अब कांग्रेस पंजाब के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ पर दांव खेलेगी. उन्हें चुनाव से पहले बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है. कांग्रेस अभी CM फेस अनाउंस करने के मूड में नहीं है. सिद्धू और चन्नी के साथ जाखड़ को भी आगे करके चुनाव लड़ने पर पार्टी विचार कर रही है.

 

वोटों का समीकरण

पंजाब में 38.49% हिंदू वोट बैंक है. अनुसूचित जाति का करीब 32% वोट बैंक कांग्रेस ने सीएम बनाकर साधने की कोशिश की है. 19% जट्‌ट सिख वोट बैंक के लिए सिद्धू चेहरा हैं. उसके बाद हिंदू वोट बैंक एक बड़ी चिंता है, जिस पर अकाली दल दांव आजमा रहा है. भाजपा इसी वोट बैंक के सहारे चुनाव में होगी और कैप्टन अमरिंदर सिंह का भी इसमें अच्छा आधार है. ऐसे में कांग्रेस की चिंता लाजिमी है.

 

सुनील जाखड़ चल रहे हैं नाराज

इधर सुनील जाखड़ फिलहाल संगठन से नाराज चल रहे हैं. उन्हें बिना किसी विवाद के हटाकर पहले तो नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बना दिया गया. इसके बाद कांग्रेस हाईकमान उन्हें पंजाब का पहला हिंदू CM बनाना चाहता था, लेकिन तब सिख स्टेट में सिख CM की बात कहकर उनका पत्ता काट दिया गया. इसके बाद से पंजाब कांग्रेस पर वे लगातार निशाना साधते रहे हैं. उनकी नाराजगी समय-समय पर दिखती रही है.

कैप्टन अमरिंदर पर जमकर बरसे सीएम चन्नी, अकालियों और बसपा के गठबंधन को भी बताया ‘अपवित्र’, केजरीवाल के वादों को कहा ‘खोखला’

 

गौरतलब है कि दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और नवजोत सिद्धू दिल्ली गए थे. वहां प्रियंका गांधी के साथ उनकी मीटिंग हुई. जिसमें पंजाब कांग्रेस इंचार्ज हरीश चौधरी भी मौजूद थे. वहां हिंदू वोट बैंक को लेकर चर्चा हुई. सूत्रों की मानें तो अनुसूचित जाति वोट बैंक के लिए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और सिख वोट बैंक के लिए सिद्धू का चेहरा है, लेकिन हिंदुओं के लिए कोई बड़ा चेहरा कांग्रेस में नहीं है. इसलिए कांग्रेस ने सुनील जाखड़ को आगे करने का मन बनाया है. इसके लिए उनकी नाराजगी को दूर करने की कोशिश की जा रही है.

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।