इंजीनियरिंग कॉलेज का वित्तीय संकट दूर करने तकनीकी शिक्षा मंत्री ने दिलाया डीएमएफ से डेढ़ करोड़ रुपये, रायगढ़ कलेक्टर ने किया स्वीकृत

रायपुर। कौशल विकास, तकनीकी शिक्षा एवं रोजगार मंत्री उमेश पटेल की पहल पर कलेक्टर एवं रायगढ़ जिला खनिज संस्थान प्रबंधकारिणी समिति अध्यक्ष यशवंत कुमार द्वारा किरोड़ीमल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाॅजी के अधिकारियों-कर्मचारियों के वेतन एवं शिक्षण कार्य हेतु जिला खनिज संस्थान न्यास नियम के मद से प्रतिमाह 25 लाख रूपये की दर से आगामी छह माह के लिए संस्था को डेढ़ करोड़ रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की गई है। इसके लिए कार्य एजेंसी प्राचार्य, किरोड़ीमल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाॅजी रायगढ़ को बनाया गया है।

संचालक तकनीकी शिक्षा पुष्पेन्द्र कुमार मीणा द्वारा संचालनालय के अधिकारियों के साथ रायगढ़ मुख्यालय स्थित किरोड़ीमल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाॅजी का 19 सितम्बर को निरीक्षण किया था। संस्था के निरीक्षण के दौरान संस्था के अधिकारियों, कर्मचारियों एवं नागरिकों से संस्था की स्थिति पर गहन विचार विमर्श किया गया था।

तकनीकी शिक्षा संचालक द्वारा पत्र के माध्यम से कलेक्टर रायगढ़ को किरोड़ीमल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाॅजी की स्थिति से अवगत करवाया गया था। वर्तमान में संस्था में कुल 123 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत है। संस्था का आवश्यक खर्च छात्रों द्वारा प्राप्त शिक्षण शुल्क से किया जाता है। पिछले पांच वर्षों में संस्था में प्रवेश लेने वाले छात्रों में निरंतर गिरावट आई है। संस्था के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के वेतन एवं शिक्षण कार्य हेतु प्रतिमाह 25 लाख रूपए की आवश्यकता होती है। आगामी छह माह के लिए संस्था को डेढ़ करोड़ रूपए की आवश्यकता होगी।

रायगढ़ क्षेत्र में किरोड़ीमल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाॅजी रायगढ़ एक महत्वपूर्ण स्थान है, जिसमें विद्यार्थी इंजीनियरिंग की शिक्षा प्राप्त कर रोजगार प्राप्त करते हैं। संस्था की आर्थिक आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए तकनीकी शिक्षा मंत्री पटेल के पहल पर कलेक्टर यशवंत कुमार ने डीएमएफ मद से राशि स्वीकृत की है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।