आम आदमी पर महंगाई की एक और मारः गरीब की ‘चरणपादुका’ पर भी बढ़ा GST, 25 रुपए में बिकने वाले चप्पल के दाम में 3 रुपए की बढ़ोतरी

भोपाल। केंद्र सरकार ने जूते-चप्पल पर जीएसटी को 5 से बढ़ाकर 12 फीसदी कर दिया है। इसी के साथ ही जूते-चप्पल पहनान भी अब महंगा हो गया है। सरकार ने गरीब की ‘चरणपादुका’ और खेती-किसानी के दौरैान पहनने वाले जूतों पर जीएसटी को बढ़ा दिया है। इसके कारण गरीब की चरणपादुका और किसान के जूते के दाम भी बढ़ गए हैं। 25 रुपए में आने वाली चप्पल के दाम भी बढ़कर 28 रुपए हो गई। सरकार ने स्कूल बच्चों को भी राहत नहीं देते हुए स्कूल जाने वाले शूज भी दाम बढ़ा दिए हैं। 

इसे भी पढ़ेः गोडसेवादी कौम कृतघ्न, खुदगर्ज और जाहिल हैः गांधी मामले में दिग्विजय सिंह ने संघ पर साधा निशाना, इधर कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने बीजेपी नेताओं को बताया ‘रावण वंशी’

बता दें कि पिछले 5-6 महीने में जूते-चप्पल बनाने में लगने वाला कच्चा माल दोगुना तक महंगा हुआ है। खासतौर पर जूते-चप्पलों के सोल की कीमतें बेतहाशा बढ़ी हैं। इस बीच सरकार ने 1,000 रुपए से कम के जूते-चप्पलों पर GST की दर 5% से बढ़ाकर 12% कर दी है। वहीं सरकार के फैसले का भारी विरोध हो रहा है क्योंकि जूते-चप्पलों की खरीदारी से लेकर इन्हें बनाने वालों तक 95% कारोबार इसी प्राइस रेंज में सिमटा हुआ है।

इसे भी पढ़ेः VIDEO: बकरियों से भरा ट्रक पलटने पर मची लूट, नए साल पर पार्टी के लिए शवों को भी लेकर भागने लगे ग्रामीण, पुलिस ने भांजी लाठियां

15 से 20 फीसदी दाम बढ़ने की आशंका 

इस सीजन में फुटवियर के दाम 15-20 फीसदी बढ़ने की आशंका है। मतलब दाम इतने ज्यादा कि आम लोगों को कोई फुटवियर खरीदने से पहले 10 दफा सोचना होगा। भारत एक विकासशील देश है। यहां की अधिकतर जनसंख्या करी है। आम आदमी 100 से लेकर 500 रुपए तक चप्पल-जूते पहनता है। इसका मतलब यह हुआ कि अबतक बिकने वाला 100 रुपए का चप्पल अब 115 से 120 रुपए में मिलेगा। यह गरीब और किसान के लिए किसी बोझ के समान ही है।

इले भी पढ़ेः महिलाओं की तस्करी करने वाले वाले गैंग का पर्दाफाशः प्रेमजाल में फंसाने के बाद दुष्कर्म कर दूसरे राज्यों में बेच देते थे, महिला समेत 5 गिरफ्तार

विदिशा में व्यापारियों ने प्रधानमंत्री के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन 

संदीप शर्मा, विदिशा। जूते-चप्पलों पर जीएसटी बढ़ाने के विरोध में विदिशा में व्यापारियों ने प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री का नाम कलेक्टर उमाशंकर भार्गव को ज्ञापन सौंपा। व्यापारियों ने ज्ञापन के माध्यम से बढ़े हुए जीएसटी को वापस लेने की मांग की है।

इसे भी पढ़ेः नरोत्तम मिश्रा से मिलने पहुंचे मंत्री गोपाल भार्गव, बंद कमरे में आधे घंटे हई दोनों नेताओं के बीच चर्चा, लोक निर्माण मंत्री ने गृह मंत्री के दिल्ली दौरे पर कसा था तंज ़

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!