हिंदू वकील पाकिस्तान में नहीं लड़ पाएंगे बार काउंसिल का चुनाव, ये है पड़ोसी मुल्क का हाल

दिल्ली। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की हालत किसी से छिपी नहीं है। देश में अल्पसंख्यकों का बुरा हाल है। अब पाकिस्तान में वकीलों को लेकर एक नया नियम बनाया गया है जो चर्चा में है।

Close Button

पाकिस्तानी के मुल्तान शहर के जिला बार एसोसिएशन से जुड़े वकीलों ने एक प्रस्ताव वहां होने वाले बार काउंसिल के चुनावों से ठीक पहले पारित किया है। इसके मुताबिक बार का चुनाव लड़ने वाले वकीलों को भी इस्लाम में अपनी आस्था साबित करने के लिए बकायदा हलफनामा पेश करना होगा। अगर किसी गैर मुसलमान वकील ने ऐसा नहीं किया तो उसे बार काउंसिल का चुनाव नहीं लड़ने दिया जाएगा।

इसके साथ ही मुल्तान की बार ने कई पदों पर गैर मुस्लिम वकीलों खासकर हिंदुओं को चुनाव लड़ने से प्रतिबंधित कर दिया है। पाकिस्तान पर धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव के आरोप हमेशा लगते हैं जिसके चलते उसकी विश्व बिरादरी में अक्सर निंदा की गई है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।