महामाया माइंस के गेट के सामने डटे सैकड़ों ग्रामीण, मनाने में जुटे अधिकारियों से मांग रहे आठ साल का हिसाब

डौंडी। रोजगार के लिए बीते आठ सालों से रोजगार देने के लिए शासन-प्रशासन को आवेदन करने के बाद भी आश्वासन के अलावा कुछ हासिल नहीं होने पर ग्रामीणों ने महामाया माइंस के सामने चक्काजाम कर दिया है. सूचना मिलने पर पहुंचे नायब तहसीलदार ने ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी. स्थिति को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर तैनात किया गया है.

रोजगार की मांग को लेकर ग्राम अध्यक्ष बलराम निषाद के नेतृत्व में महामाया के सैकड़ों ग्रामीण महिला – पुरुष ने माइंस के मुख्य गेट बाहर चक्काजाम कर बैठे हैं. दो दिन पहले डौंडीलोहारा में रोजगार की मांग को लेकर ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया था. इसके बाद राजहरा के बीएसपी रेस्ट हाउस में प्रशासन के साथ ग्रामीणों की चर्चा भी हुई थी, लेकिन समस्या का कोई हल नहीं निकलने पर ग्रामीणों ने गुरुवार को चक्काजाम कर वाहनों की आवाजाही ठप कर दी.

चक्काजाम की सूचना पर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है. वहीं नायब तहसीलदार विनय देवांगन ने स्थल पर आकर प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों से मांगों के संबंध में चर्चा की. लेकिन ग्रामीण नायब तहसीलदार की बातों से सहमत नहीं हुए और धरना-प्रदर्शन जारी रखे हुए हैं. मामला सुलझता नहीं देख एसडीएम प्रेम लता चंदेल मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों से बात कर रही हैं.

मौके पर मौजूद महामाया माइंस लेबर वेलफेयर ऑफिसर एसआर साहू व अन्य अधिकारियों ने मीडिया से चर्चा में कहा कि महामाया माइंस में स्थानीय व आसपास के लोग ही कार्य में लगे हुए हैं. हम इनकीं मांगों पर कुछ नहीं कह सकते हैं. यह निर्णय बीएसपी के उच्च अधिकारी ही ले पाएंगे. लेकिन बीएसपी के उच्च अधिकारी प्रदर्शन स्थल में अनुपस्थित थे.

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।