क्या प्रदेश में सरकारी दुकानों में सप्लाई के नाम पर कोई बड़ा खेल चल रहा है ? बगैर रिकॉर्ड के खपाई जा रही शराब, जानिये क्या है मामला

संदीप सिंह ठाकुर, लोरमी। क्या प्रदेश की सरकारी दुकानों में बेनामी शराब खपाई जा रही है? क्या शराब को लेकर प्रदेश में कोई बड़ा खेल खेला जा रहा है? ये सवाल इसलिए कि  मुंगेली जिले के शराब दुकानों में बगैर स्कैनिंग के देशी शराब खपाए जाने का मामला सामने आया है। यहां किसी और जिले के नाम पर निकली शराब को खपाया जा रहा है।

Close Button

मामला मुंगेली जिले के कंतेली देशी मदिरा दुकान का सामने आया है, जहां सरकारी शराब दुकान में शनिवार को 400 पेटी देशी शराब बिना स्कैनिंग के सप्लाई की गई। जिसके संबंध में ना तो ट्रक चालक और ना ही मदिरा दुकान के सुपरवाइजर के पास ही कोई रिकार्ड मौजूद है।

यहां तक कि  शराब को जिस वाहन में सप्लाई की जा रही थी उस वाहन के चालक के पास शराब के संबंध में कोई भी दस्तावेज ही नहीं थे। यही नहीं जब देशी मदिरा प्लेन के बोतल को देखा गया तो उसमें “केवल छत्तीसगढ़ प्रदाय क्षेत्र बेमेतरा के लिए” का स्टिकर लगा हुआ था।

ऐसे में सवाल यह उठता है कि जब बेमेतरा का स्टिकर शराब के बोतल में लगा है तो मुंगेली जिले के शराब दुकानों में इसे कैसे खपाया जा रहा है। कंतेली देशी मदिरा दुकान के सुपरवाइजर रमेश कुमार साहू ने बताया कि मुंगेली जिले का शराब गोदाम पड़ावचौक में है, जहां से हर दो दिनों में परमिट के हिसाब से शराब दुकान में माल आता है। जबकि उनके पास शराब की इस खेप को रखवाने के लिए कोई परमिट नहीं था। शराब दुकान में जो शराब उतारी गई है उसकी कीमत 15 लाख रुपये से भी ज्यादा की बताई जा रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक अधिकारियों की मिलीभगत से यह खेल धड़ल्ले से चल रहा है। इस मामले में मुंगेली जिला आबकारी अधिकारी वीआर लहरे से लगातार बात करने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

उधर इस पूरे मामले में मुंगेली कलेक्टर पीएस एल्मा ने जांच कराने की बात कही है साथ ही उन्होंने अंदेशा जताया है कि गलती से बेमेतरा का शराब मुंगेली न भेज दिया गया हो।

हालांकि इस पूरे मामले में जो जानकारी निकल कर सामने आ रही है, उसके मुताबिक “मदहोशी के” इस खेल की अगर जांच कराई जाएगी तो कई बड़े ही चौकानें वाले खुलासे होंगे और कई बेपर्दा भी हो जाएंगे।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।