EXCLUSIVE: मोर्चा दो फाड़, शुक्रवार को अलग हो जाएंगे वीरेंद्र दुबे, संजय शर्मा से पूछा टिकट का आश्वासन तो नहीं था ?

 

रायपुर. शिक्षाकर्मी आंदोलन के बाद शुरु हुए शीर्ष नेताओं के टकराव फूट में बदल गई है. शालेय शिक्षाकर्मी संघ ने खुद को शुक्रवार से आंदोलन के बने बने शिक्षक पंचायत नगरीय मोर्चा से अलग करने की घोषणा कर दी है. संघ के संचालक मंडल के मुखिया वीरेंद्र दुबे ने लल्लूराम डॉट कॉम से बात में कहा कि वे मोर्चा से अलग होने का निर्णय कर चुके हैं.

Advertisement
Patakha ban Ad

वीरेंद्र दुबे ने दूसरे संचालक संजय शर्मा पर बेदह संगीन आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा कि उनकी मुलाकात सरेआम सबको बताकर हुई है. संजय शर्मा के पदाधिकारियों को भी इस मुलाकात के बारे में बता दिया गया था. इस पर संजय शर्मा का कहना है कि उन्होंने खुद करीब 5 बजे वीरेंद्र दुबे के पदाधिकारियों को कह दिया था कि मोर्चा अभी सीएम से मिलने के पक्ष में नहीं है. इसलिए वे वहां ना जाएं.

वीरेंद्र दुबे ने संजय शर्मा से पूछा है कि संजय शर्मा अचानक रात को 11 बजे कैसे पहुंच गए. वे तो जेल में थे. लेकिन संजय शर्मा ने गिरफ्तारी से बचने की बजाय आंदोलन को लीड क्यों नहीं किया. क्यों वे छिपते रहे. वीरेंद्र दुबे ने कहा कि पहले भी संजय शर्मा पर कई आरोप लग चुके हैं. वीरेंद्र दुबे का कहना है कि 2008 में संजय शर्मा ने अचानक अपना आंदोलन खत्म कर दिया था जिसके बाद उन पर सांठगांठ के आरोप लगे थे. बात ये भी सामने आई थी कि उन्होंने बेलतरा से विधानसभा टिकट का आश्वासन लिया था. कहीं इस बार भी तो उन्होंने विधानसभा की टिकट का आश्वासन लेकर आंदोलन खत्म नहीं किया है.

ADVERTISEMENT
cg-samvad-small Ad

उन्होंने कहा कि ये बेदह विचित्र बात है कि एक दिन पहले संजय शर्मा सर्किट हाऊस में सीएम पर भरोसा जताते हैं और दूसरे दिन सीएम हाऊस जाने पर सवाल उठाते हैं. उन्होंने बताया कि संजय शर्मा के संगठन के प्रांतीय सचिव मनोज सनाड्य ने वो लेटर ड्राफ्ट किया था जिसमें आंदोलन वापिस लेने का फैसला किया था. उन्होंने कहा कि संजय शर्मा अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं. अगर आंदोलन सफल होता तो श्रेय सबको मिलता और अगर ये खत्म हुआ तो इसका अपश्रेय भी सबका होगा.

उन्होंने कहा कि संजय शर्मा को अगर किसी बात पर आपत्ति थी तो उसे बैठक में रखनी थी. सार्वजनिक तौर पर ये कहने का क्या मतलब था.

Advertisement
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।