MP में बर्ड फ्लू की दस्तकः आगर मालवा में 8 दिन चिकन शॉप बंद, प्रदेश के सभी कलेक्टरों को सरकार ने किया अलर्ट, हर जिले में गठित की जाएगी टीम

मनीष मारू, आगर मालवा। MP में बर्ड फ्लू (Bird Flu )ने दस्त दे दी है। मध्यप्रदेश में बर्ड फ्लू का पहला मामला आगर मालवा जिले में आया (first case of bird flu in Madhya Pradesh came in Agar Malwa district)  है। आगर मालवा में दो दिन पहले मरे कौओं में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। एहतियातन चिकन मीट मार्किट को 8 दिन के लिए बंद करने के नगरपालिका ने निर्देश जारी किया है। आगर मालवा में बर्ड फ्लू का मामला सामने आने के बाद क्षेत्र में प्रशासनिक स्तर पर अलर्ट जारी हो चुका है।

इसे भी पढ़ेः शशि थरूर के ट्वीट पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कटाक्ष, कहा- जिस पार्टी के नेता महिलाओं को ‘माल’ कहते हैं उनके बारे में प्रियंका गांधी का क्‍या ख्‍याल है

वहीं आगर मालवा में बर्ड फ्लू के मामले सामने आने के बाद सरकार ने अलर्ट जारी किया है। प्रदेश के सभी जिलों के केलेक्टरों को अलर्ट किय़ा है। पशुपालन, वन, स्वास्थ्य और अन्य समन्वयक विभागों की बैठक कर जिले में तैयारी का आकलन करने के निर्देश दिए हैं। प्रवासी पक्षियों एवं अन्य राज्यों से लाने वाले सीमावर्ती जिलों के चिकन मार्केट ,हाट बाजार आदि से सैंपल इकट्ठा कर जांच के लिए भेजने का निर्देश दिया है। इसके लिए हर जिले में टीम गठित करने का निर्देश दिया है। पोल्ट्री फॉर्म ,चिड़ियाघर, अभ्यारण्य, कुक्कुट बाजार आदि बॉयोसिक्युरिटी मापदंडों का पालन करवाने का आदेश दिया है।

इसे भी पढ़ेः 50 साल के अधेड़ ने किया 6 वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म, रुपए देने का लालच देकर ले गया घर, फिर वारदात को दिया अंजाम

बता दें कि आगर मालवा जिला मुख्यालय पर साईं मंदिर और बड़ा तालाब क्षेत्र से अब तक 48 कौओं के शव और 1 बगुले का शव अबतक मिल चुका है। बर्ड फ्लू की आशंका के चलते पशु चिकित्सा विभाग (veterinary department) ने जांच के लिए भोपाल लैब में 1 कौए का शव सैंपल के रूप में भेजा था। मंगलवार को सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आने की पुष्टि प्रशासनिक स्तर पर की गई।

आगर मालवा कलेक्टर अवधेश शर्मा (Agar Malwa Collector Awadhesh Sharma)  मामले को गंभीरता से लेते हुए अधिकारियों की आपात बैठक कलेक्टर सभाकक्ष में ले रहे हैं। एहतियातन चिकन मीट मार्किट को 8 दिन के लिए बंद करने के नगरपालिका ने निर्देश जारी किया है।

इसे भी पढ़ेः जीती ममता, हारा तेंदुआः खूंखार तेंदुए से लड़कर मौत के मुंह से अपने लाल को बचा लाई ‘मां’, एक किलोमीटर दूर तक पीछा कर बचाई अपने बच्चे की जान

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!