छत्तीसगढ़ के इस बड़े निजी अस्पताल में जन्मी बेटी, तो नहीं लगेगा कोई भी चार्ज…

बेटी चाहे ऑपरेशन से हो या नार्मल, नहीं देना होगा 1 रुपया भी

प्रतीक चौहान. रायपुर. मत मारो तुम कोख में इसको, इसे सुंदर जग में आने दो. छोड़ो तुम अपनी सोच पुरानी, इक मां को ख़ुशी मनाने दो. बेटी के आने पर अब तुम, घी के दिये जलाओ. आज ये संदेशा पूरे जग में फैलाओ. एक कविता की ये पक्तियां चरितार्थ करते हुए शहर के एक डॉक्टर ने बढ़ी घोषणा की है.

घोषणा ये है कि अब प्रदेश में बड़े निजी अस्पतालों में से एक श्री बालाजी सुपर स्पेशियालिटी अस्पताल में बेटी के जन्म पर अस्पताल कोई भी चार्ज नहीं लेगा.


लल्लूराम डॉट कॉम से खास बातचीत में ये घोषणा अस्पताल के डायरेक्टर डॉ देवेंद्र नायक ने की है. उन्होंने कहा है कि बेटी चाहे नार्मल हो या सीजेरियन तरीके से अस्पताल में परिजनों से 1 रुपए का भी शुल्क नहीं लिया जाएगा. वहीं अस्पताल में गर्भवती महिलाओं के लिए कंसल्टेंट भी पूरी तरह फ्री कर दिया गया है. ये सुविधा हर वर्ग के लोगों के लिए लागू होगा.

 किसी भी राज्य के मरीज उठा सकते है लाभ

डॉ देवेंद्र नायक ने कहा कि इस सुविधा का लाभ देश के किसी भी राज्य के लोग उठा सकते है. इसके लिए कोई भी क्राइटेरिया निर्धारित नहीं किया गया है. हालांकि उन्होंने ये स्पष्ट कर दिया है कि इसमें दवाई का शुल्क गर्भवती महिला के परिजनों को वहन करना होगा.

 बेटा हुआ तो…

अब सवाल ये है कि यदि डिलीवरी में बेटे का जन्म होगा तो अस्पताल क्या चार्ज लेगा. इसपर डॉ नायक कहते है कि बेटे की डिलीवरी में भी 50% डिस्काउंट अस्पताल द्वारा दिया जाएगा. वहीं सीजेरियन का शुल्क भी 10 हजार रुपए निर्धारित कर दिया गया है. इसमें दवाएं और अस्पताल का शुल्क भी शामिल है. ये सुविधा जनरल वार्ड में ही उपलब्ध होगी.

कब से मिलेगा इस योजना का लाभ ?

डॉ देवेंद्र नायक ने बताया कि इस योजना का लाभ अगले 1 हफ्ते बाद से यानी 15 फरवरी 2020 से निरंतर जारी रहेगा. वहीं गर्भावस्था में टेस्ट के शुल्क में भी 50% डिस्काउंट उपलब्ध होगा.

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!