बुलडोजर एक्शन पर जमकर बरसे सीएम केजरीवाल, कहा- दिल्ली के 63 लाख लोग होंगे प्रभावित, विधायक कार्रवाई के विरोध में आएं सामने

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने अपने सभी विधायकों को नगर निगम के बुलडोजर के खिलाफ खड़ा होने की हिदायत दी है. राज्य सरकार का मानना है कि 63 लाख लोग और 80 प्रतिशत से अधिक दिल्ली नगर निगम के बुलडोजर से प्रभावित होगी. आज सोमवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपनी पार्टी के सभी विधायकों और मंत्रियों की एक बैठक बुलाई. इस बैठक में मुख्यमंत्री ने विधायकों से कहा कि वे निगम द्वारा की जा रही बुलडोजर की कार्रवाई का खुलकर विरोध करें. इसके लिए यदि उन्हें जेल भी जाना पड़ता है, तो जेल जाने से न डरें. पार्टी अपने ऐसे सभी विधायकों के साथ खड़ी है. केजरीवाल का कहना है कि इनकी प्लानिंग है कि दिल्ली की सारी कच्ची कॉलोनियों को तोड़ा जाएगा. दिल्ली की कच्ची कॉलोनियों में लगभग 50 लाख लोग रहते हैं. इनकी प्लानिंग है कि दिल्ली की सारी झुग्गियों को तोड़ा जाए. दिल्ली की झुग्गियों में लगभग 10 लाख लोग रहते हैं. इसके अलावा 3 लाख ऐसी प्रॉपर्टी की लिस्ट बना रखी है, जहां नक्शे से बाहर जाकर थोड़ा बहुत निर्माण कर रखा है, जैसे- बालकनी वगैरह. ऐसे में 63 लाख लोग बुलडोजर से प्रभावित होंगे.

ये भी पढ़ें: दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल को खालिस्तानी आतंकियों से जान का खतरा, पंजाब पुलिस ने दिल्ली पुलिस को लिखा पत्र

80 फीसदी दिल्ली अलप्लान्ड तरीके से बनी हुई- केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि पिछले कुछ हफ्तों से भाजपा शासित नगर निगम द्वारा दिल्ली के कई हिस्सों में बुलडोजर चलाए जा रहे हैं. केजरीवाल के मुताबिक निगम की योजना अगले कई महीनों तक इसी तरह बुलडोजर चलाने की है. मुख्यमंत्री केजरीवाल का कहना है कि वह खुद भी अतिक्रमण के खिलाफ हैं, लेकिन पिछले 75 साल में दिल्ली जिस तरह से बनी है, वह प्लान्ड नहीं है. 80 प्रतिशत से अधिक दिल्ली अतिक्रमण के दायरे में आती है. ऐसे में प्रश्न उठता है कि तो फिर क्या 80 प्रतिशत दिल्ली को तोड़ा जाएगा. दूसरा प्रश्न यह है कि जिस तरह से अतिक्रमण को तोड़ा जा रहा है न कोई कागज है और न कोई प्रक्रिया.. बस बुलडोजर लेकर किसी भी कॉलोनी में पहुंच जाते हैं और लोगों का घर तोड़ने लगते हैं. लोग कागज लेकर बुलडोजर के सामने खड़े हैं. वह अपील करते हैं कि हमारे पास पूरे कागज हैं, हमारे घर मत तोड़ो, लेकिन उनकी नहीं सुनी जा रही. बुलडोजर से घर तोड़े जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार की मंजूरी पर दिल्ली में दंत चिकित्सकों के कैडर का गठन, अब आसान होगी नई भर्तियां

केजरीवाल ने बीजेपी शासित नगर निगम पर साधा निशाना

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं समझता हूं कि यह आजाद भारत का सबसे बड़ा विध्वंस होगा. उनका कहना है कि चुनाव के पहले भारतीय जनता पार्टी ने कहा था कि कच्ची कॉलोनियों के लोगों को मालिकाना हक दिलाया जाएगा. इन लोगों ने कहा था कि जहां झुग्गी है, वहीं मकान बनाकर दिए जाएंगे और अब चुनाव के बाद यह इनको तोड़ने के लिए आ गए. केजरीवाल ने कहा कि मैं फिर से दोहराना चाहता हूं कि हम अतिक्रमण के खिलाफ हैं. मैं भी चाहता हूं कि हमारी दिल्ली सुंदर और अच्छी दिखे, लेकिन 63 लाख लोगों की दुकानें, घर तोड़ देना ठीक नहीं है. यह कार्रवाई कोई बर्दाश्त नहीं करने वाला. 15 वर्षों से नगर निगम में बीजेपी का राज है. 15 साल में इन लोगों ने क्या किया. भाजपा ने अपने राज्य के दौरान अवैध बिल्डिंग बनवाई, पैसे लेकर अवैध निर्माण होने दिए, अब जब 18 मई को इनका कार्यकाल पूरा होने जा रहा है, तो ऐसी कार्रवाई कर रहे हैं. लेकिन सवाल ये है कि जबकि 18 मई को इनका कार्यकाल पूरा होने जा रहा है, तो क्या अब ऐसे में इनके पास नैतिक शक्ति है, क्या संवैधानिक शक्ति है कि ऐसा बुलडोजर चलाने की कार्रवाई कर सकें.

ये भी पढ़ें: दिल्ली में भीषण गर्मी, तापमान 49 डिग्री के पार, अचानक मौसम बदलने से लोगों को मिली थोड़ी राहत

नगर निगम में जीत के बाद कच्ची कॉलोनी में रहने वालों को दिलाएंगे मालिकाना हक- केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि चुनाव के बाद नगर निगम में आम आदमी पार्टी की सरकार बनेगी. हम आज सब को भरोसा दिलाते हैं कि नगर निगम में जीत के बाद हम इस समस्याओं को सुलझाएंगे. कच्ची कॉलोनियों को साफ-सुथरा बनाएंगे, वहां रहने वाले लोगों को मालिकाना का हक देंगे. उनको अच्छी कॉलोनियों के रूप में विकसित करेंगे. झुग्गी वालों के लिए हम लोग मकान बना रहे हैं, लेकिन टाइम लग रहा है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज मैंने विधायकों की मीटिंग ली और उनको यही कहा है कि अगर जेल भी जाना पड़े, तो डरना मत , लेकिन आपको जनता के साथ खड़ा होना है.

Related Articles

Back to top button