कोयले की कमी को लेकर CM केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, दिल्ली में हस्तक्षेप की मांग

सीएम केजरीवाल ने पीएम मोदी के सामने रखी 3 मांगें

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के बिजली प्लांटों में कोयले की कमी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM narendra modi) को पत्र लिखा है. सीएम केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में बिजली संकट की समस्या के समाधान के लिए प्रधानमंत्री मोदी से इस मामले में व्यक्तिगत हस्तक्षेप करने की अपील की है.

cm kejriwal wrote a letter to pm modi
सीएम केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली को बिजली संकट का सामना करना पड़ सकता है. उन्होंने लिखा कि ”मैं व्यक्तिगत रूप से हालात पर नजर रख रहा हूं. हम इससे बचने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. इस बीच मैंने माननीय प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखकर उनके व्यक्तिगत तौर पर हस्तक्षेप की मांग की है.”

प्रधानमंत्री मोदी 20 अक्टूबर को आएंगे कुशीनगर, इन कार्यक्रमों में होंगे शामिल

 

सीएम केजरीवाल ने पत्र में थर्मल पॉवर प्लांट में कोयले की किल्लत और कोयले की मौजूदा स्टॉक की जानकारी दी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा है कि इन हालात में गैस आधारित पावर प्लांट पर निर्भरता बढ़ती है, लेकिन इतनी गैस नहीं है कि वह पावर प्लांट अपनी पूरी क्षमता पर चल सकें.

 

सीएम केजरीवाल ने पीएम मोदी के सामने रखी 3 मांगें

उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय से मामले में दखल देने की गुजारिश की और तीन मांग की. सीएम केजरीवाल ने कहा कि दूसरे पावर प्लांट से कोयला दादरी और झज्जर पावर प्लांट भेजी जाए. दूसरी मांग ये कि दिल्ली के गैस आधारित पावर प्लांट को पर्याप्त गैस दी जाए, साथ ही इलेक्ट्रिसिटी एक्सचेंज में मुनाफाखोरी ना हो, इसके लिए प्रति यूनिट बिजली बेचने का अधिकतम रेट तय किया जाए.

सीएम केजरीवाल की सख्ती आई काम, कोरोना से जान गंवाने वालों के परिवारों को मिली मदद

 

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर शहर में आपूर्ति करने वाले बिजली प्लांटों को पर्याप्त कोयला और गैस आपूर्ति के लिए हस्तक्षेप करने की मांग की. उन्होंने कहा कि राजधानी में कोयला संकट की वजह से बिजली सप्लाई प्रभावित हो रही है, क्योंकि बिजली प्लांट को पर्याप्त मात्रा में कोयला नहीं मिल रहा है.

आर्यन ड्रग केस, बेटे के करतूतों की सजा मिलने लगी शाहरुख को… लगी लंबी चोट

 

दरअसल देशभर में कोयले से बिजली बनाने वाले पावर प्लांट इस वक्त कोयले की कमी से जूझ रहे हैं. राजस्थान के पावर प्लांटों में कोयले की कमी के कारण गुरुवार को बिजली का उत्पादन प्रभावित हुआ, जिससे राज्य में बिजली संकट पैदा हो गया है. कोयल की कमी के कारण कुछ पावर प्लांट बंद है, जबकि शेष प्लांट में कोयला खदानों में बारिश के पानी के कारण आपूर्ति कम होने के कारण एक या दो दिनों के लिए कोयले का भंडार बचा हुआ है.

Lakhimpur Kheri Violence: Navjot Singh Ends Hunger Strike

 

कोयले की कमी के कारण देश के उत्तर भारतीय राज्यों में भी बिजली कटौती का सामना करना पड़ा है। हालांकि, इस मामले में भारत के बिजली मंत्रालय ने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है. इस बीच, कोयले की कमी का संकट गहराने के बीच दिल्ली में सेवाएं दे रही टाटा पावर की इकाई ने अपने ग्राहकों को फोन पर संदेश भेजकर इसकी जानकारी दी है और उनसे शनिवार दोपहर बाद से बिजली का ध्यान से उपयोग करने का आग्रह किया है.

 

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।