शातिर ठगों के चंगुल में फंसा कोयला कारोबारी, व्यापारी ने ऐसे गंवाए दस लाख रुपये

हेमंत शर्मा, रायपुर। राजधानी के कारोबारी से ठगी का मामला सामने आया है। कोयला बेचने के बहाने आरोपियों ने राजधानी के गुढ़ियारी में रहने वाले व्यापारी से 10 लाख रुपये की ठगी की। मामले में खमतराई पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अपराध दर्ज किया है।

जिन दो आरोपियों पर ठगी का आरोप है उनमें से एक अम्बाला निवासी मलकियत मान है और दूसरा जूनागढ़ निवासी विवेक श्रीवास्तव। पुलिस के मुताबिक आरोपी मलकियत सिंग मान और विवेक श्रीवास्तव ने जून 2020 में प्रार्थी विजय वर्मा के दोस्त जगदीश सैनी को फोनकर अपने आप को कोयले का बड़ा व्यापारी बताया। इस बात की जानकारी जगदीश ने कोयला व्यवसायी विजय वर्मा को दी। कोयले की कीमत पता करने के लिए विजय ने अपने दोस्त के फोन से मलकियत मान को फोनकर जानकारी चाही तो मलकियत द्वारा बोला गया कि विवेक श्रीवास्तव को बुलाता हूं वह बात कर लेगा क्योकि सौदे की बात वही करता है। इसके बाद मनीष ने फोनकर जानकारी दी और12 अगस्त को इनके बीच कोयले का सौदा हुआ।

आरोपियो द्वारा प्रार्थी विजय वर्मा को कहा गया कि आपको पहले एडवांस 10 लाख रुपये देना होगा। इसके लिए उन्होंने अकाउंट नंबर भेजा। इसके बाद पीड़ित कारोबारी विजय वर्मा ने दो बार 10 लाख रुपये एडवांस आरोपियो द्वारा दिये गए खाते में जमा करा दिया। कई दिन बीत जाने के बाद भी जब माल उपलब्ध नहीं कराया गया तो प्रार्थी ने आरोपियो से पैसे की मांग की जिस पर वो टाल मटोल करते रहे।

इस मामले में खमतराई थाना प्रभारी संजय पुंढीर ने बताया कि आरोपियो ने प्रार्थी को अपना कोयले का कारोबार होने की बात कहकर विशाखापत्तनम से कोयला सप्लाई करने की बात कही थी। इसके लिए उन्होंने 10 लाख रुपये एडवांस लिए थे। लेकिन इसके बाद आरोपियो ने कोयला सप्लाई ही नहीं किया। पता चला है कि आरोपियो का इस प्रकार का कोई बिजनेस ही नहीं है।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।