कोरोना का कहर- आईसीसी ने जारी की नई गाइडलाइन्स, जानिए उसमें क्या-क्या है ?

स्पोर्ट्स डेस्क– कोरोना वायरस की वजह से कई देश लॉक डाउन का सामना कर रहे थे, लेकिन अब धीरे धीरे कई देश लॉकडाउन में थोड़ी बहुत ढील देना भी शुरू कर चुके हैं, जिसके बाद अब खेल को भी पटरी पर लाने की तैयारी शुरू हो चुकी है, और इस कोरोना काल में अब खेलों में क्या कुछ बदलाव होने है उसे लेकर भी उससे संबंधित बोर्ड अलग अलग नियम बनाने शुरू कर दिए हैं। 

जिसे देखते हुए अब आईसीसी भी क्रिकेट को फिर से पटरी पर लाने की तैयारी में जुट चुका है और उसी को ध्यान में रखते हुए आईसीसी ने नई गाइडलाइन्स जारी की है, जिसमें सभी सदस्य देशों को आईसीसी ने गाइडलाइन्स का पालन करने को कहा है। आईसीसी की नई गाइडलान्स का मतलब है कि क्रिकेट को सभी स्तरों पर सामुदायिक, घरेलू, और इंटरनेशल लेवल पर शुरू करना है। आईसीसी ने जो नई गाइडलाइन्स जो तैयार की है, वो मेडिकल सलाहकार समिति ने सदस्य चिकित्सा प्रतिनिधियों के साथ बातचीत के बाद तैयार की गई है, जिसमें कई सिफारिेशें की गई हैं।

–    मुख्य चिकित्सा या बायो सुरक्षा अधिकारी की नियुक्ति, जो ये सुनिश्चित करे कि जब खिलाड़ी ट्रेनिंग कैंप पर लौटें तो सरकार की गाइडलाइन्स का पालन करें।

 

–    मैच से पहले आइसोलेशन ट्रेनिंग कैंप हो, जहां तापमान की निगरानी और कोविड-19 टेस्टिंग के साथ ट्रेवल से पहले 14 दिन का क्वारंटाइन हो।

 –    प्रैक्टिस और मैच के दौरान टेस्टिंग प्लान हो।

–    संबंधित क्रिकेट बोर्ड क्रिकेटर्स के लिए सुरक्षित माहौल तैयार करें जो ट्रेनिंग और मैच वेन्यू दोनों के लिए हो।

–    सभी क्रिकेटर हमेशा डेढ़ मीटर का फासला बनाए रखें।

–    निजी सामान और उपकरणों का सेनेटाइजेशन हो।

–    खिलाड़ी तैयार होकर मैदान में पहुंचे और साझा सुविधाएं जैसे शॉवर्स और चेंजिंग रूम का इस्तेमाल न करें।

–    लार के गेंद पर इस्तेमाल पर रोक के बाद खिलाडि़यों को गेंद को लेकर स्पष्ट दिशा निर्देश हों।

–    यात्रा के लिए सभी बोर्ड अपनी सरकार की गाइडलाइन्स का पूरी तरह से पालन करें।

–    चार्टर्ड फ्लाइट्स का इस्तेमाल करें और दूरी बनाए रखें।

–    टीम होटल्स में अपने अपने फ्लोर पर ही रुकें।

–    ट्रेनिंग के लिए निर्धारित चरणों का पालन हो।

–    क्रिकेट बोर्ड अपने अपने दल को बड़ा रखें जिससे खेल शुरू होने पर जरूरतों को पूरा किया जा सके।

–    मैच की स्थिति में हर स्थल पर चिकित्सा सुविधाएं अवलेबल रहें, डॉक्टर को बुलाने की सुविधा हो और पर्याप्त चिकित्सा स्टाफ रहे।

–    खिलाड़ी अपनी कैप, टॉवल, या स्वेटर ओवर्स के बीच में अंपायर को हीं दें।

–    अंपायर गेंद को संभालते वक्त दस्तानों का इस्तेमाल करें। 

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।