जयंती विशेष : प्रेमचंद ने समाज की बुराइयों को अपने उपन्यासों और कहानियों में उकेरा, आज भी प्रासंगिक है उनकी रचनाएं

कलम के सिपाही के रूप में देश में अपनी अलग पहचान बनाने वाले प्रगतिशील कथाकार प्रेमचंद ने समाज में व्याप्त बुराइयों को अपने उपन्यासों और कहानियों में उकेरा. उन्होंने शोषण और अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई. प्रेमचंद ऐसे कालजयी लेखक हैं, जिन्होंने पीढ़ियों और समय की सीमाओं को पार कर लिया और आज तक उनकी रचनाएं प्रासंगिक है.

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।