Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

जांजगीर-चांपा. सक्ती नगरपालिका द्वारा नवनिर्मित दुकानों की नीलामी में हुए षड्यंत्र के सामने आते ही अब पार्षद और अधिकारी हरकत में आ चुके हैं. साथ ही पहले हुई नीलामी प्रक्रिया को निरस्त कर साफ सुथरे तरीके से फिर से नीलामी करने का फैसला लिया गया है. बता दें कि 8 जुलाई को नगरपालिका सक्ती में नवनिर्मित स्व. बिसाहूदास महंत सियान सदन में बनी 5 दुकानों की नीलामी की गई थी. जिसमें नगरपालिका के ही कुछ जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों ने धन्ना सेठों के साथ मिलकर नगर पालिका सक्ती को लाखों का नुकसान पहुंचाने के लिए एक बड़ा षड्यंत्र रचा था. जिसमें वो लगभग कामयाब भी हो चुके थे.

स्टिंग वीडियो ने खोली थी षड्यंत्र की पोल

LALLURAM.COM को हाथ लगी एक स्टिंग वीडियो ने उनके मंसूबो पर पानी फेर दिया था. स्टिंग वीडियो में साफ नजर आ रहा था कि कैसे नगरपालिका के जिम्मेदारों ने धन्ना सेठों के साथ मिलकर 25 से 30 लाख की दुकान को साढ़े 6 लाख में प्राप्त कर लिया. स्टिंग वीडियो नीलामी में भाग लेने वाले एक युवक का था जो षडयंत्रकारियों का मोहरा बनकर नीलामी में भाग लेने बैठा था और इसके लिए उसे 1 लाख 25 हजार रुपये मिलने थे. वहीं इस मामले में जब हमने गहराई में जाकर पड़ताल की तो पता चला कि उस मोहरे की तरह कई और मोहरे नीलामी में शामिल किए गए थे जो पर्दे के पीछे रहकर षड्यंत्रकारी जनप्रतिनिधियों ओर धन्ना सेठों के लिए काम कर रहे थे.

दुकानों की अंतर की राशि ने खड़े किए थे कई सवाल

नीलामी के दौरान सियान सदन की दुकान क्रमांक 2 के लिए 18 लोगों को करीब 1-1लाख रुपये में खरीद फरोख्त कर दुकान को महज साढ़े 6 लाख रुपये में नीलाम कर दिया गया. जबकि उसके बगल की दुकान क्रमांक (1) 27 लाख रुपये में नीलाम हुई थी. इसी से सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस प्रकार षड्यंत्र कर नगर पालिका सक्ती को लाखों का चूना लगाया जा रहा था. हालांकि वे अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सके.

कल हुई बैठक में फिर गुंजा मुद्दा, नीलामी निरस्त करने की उठी मांग

नगरपालिका सक्ती में शुक्रवार को हुई बैठक में अध्यक्ष, नेताप्रतिपक्ष सहित ज्यादातर पार्षदों ओर एल्डरमैन ने एक स्वर में इस नीलामी प्रक्रिया को निरस्त कर फिर से साफ सुथरे तरीके से नीलामी प्रक्रिया को करने का फैसला किया है. हालांकि 3 पार्षदों ने पहले हुई नीलामी को सही ठहराया है. जिसके बाद सीएमओ (CMO) ने सभी का मत लेकर आगे की कार्रवाई के लिए फाइल कलेक्टर के पास भेजने की बात कही है.

इसे भी पढ़ें : नीलामी में खेला का STING VIDEO: नवनिर्मित दुकानों में धन्ना सेठ और नेताओं का रहा कब्जा, एक दुकान 6 लाख तो दूसरी बिक गई 27 में, ‘धृतराष्ट्र’ की भूमिका में CMO