दो युवकों ने श्रमिक कार्ड बनाने फिंगर स्कैनर पर लगवाया अंगूठा, खाते से कट गए 38 हजार रुपए, दोनों गिरफ्तार

अनिल सक्सेना, रायसेन। जिले से फर्जी करने का अनोखा मामला सामने आया है। यहां जालसाजों ने पहले तो मजदूर को श्रमिक कार्ड (labor card) बनवाने का झांसा देकर उससे आधार कार्ड (Aadhar card)  समेत सभी डॉक्यूमेंट ले लिए। मजदूर के अंगूठे का निशान भी ले लिया। उसके बाद उसके एकाउंट से 38 हजार रुपए निकाल लिए। शिकायत के कार्रवाई करते हुए पुलिस ने दोनों धोखेबाजों को गिरफ्तार कर लिया है। 

इसे भी पढ़ेः VIDEO: मुझे नौलखा मांगा दे रे… गाने पर दबंग विधायक रामबाई का देखिए स्टेज तोड़ परफॉर्मेंस, जिसने भी देखा उसके मुंह से यही निकला- वाह! क्या डांस है

दरअसल राज्य शासन के प्रतिनिधि बनकर मजदूर के पास दोनों धोखेबाज पहुंचे।  मुफ्त में श्रमिक कार्ड बनवाने का झांसा देकर उससे  आधार कार्ड समेत सभी डॉक्यूमेंट और अंगूठे के निशान ले लिया। अंगूठे के निशान लेते ही उसके खाते से 38 हजार रुपए निकल गए। मजदूर के शिकायत के बाद सलामतपुर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सिलवानी निवासी मनोज प्रजापति और बृजनंदन कुशवाहा को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के पास से 2 लैपटॉप, 2 फिंगर प्रिंट स्केैनर, 2 मोबाइल, एक बाइक और 13 हजार रुपए जब्त किया है।

इसे भी पढ़ेः हिरेंद्र सिंह पर MP की सियासत गर्मः जयवर्धन सिंह बोले- कोई सियासी नुकसान नहीं उल्टा फायदा होगा, पीसी शर्मा ने कहा- कांग्रेस पार्टी समुद्र, एक के जाने से कुछ नहीं होगा

एडिशनल एसपी अमृत मीणा ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले के सांची के दीवानगंज के महुआखेड़ा में दो लोगों ने  श्रमिक कार्ड बनाने के लिए सरकार द्वारा भेजे जाने की बात करके अपने मोबाइल और लैपट़प में एईपीएस से संबंधित एप्लीकेशन डाउनलोड कर उसमें रजिस्ट्रेशन किया। एप्लीकेशन में बैलेंस इन्क्वयारी के ऑप्सन पर क्लिक कर संबंधित फरियादी से उसका आधार कार्ड नंबर सहित बैंक खाता नंबर ले ली। उसके बाद अंगूठे के निशान स्कैन किया। इस प्रक्रिया से जिसका भी आधार कार्ड नंबर है, उसके सभी एकाउंट की जानकारी आ जाती है। इसके बाद आरोपियों ने फिर से आधार कार्ड नंबर लेकर प्रक्रिया दोहराई जाती हैा। फरियादी के एकाउंट से धोखाधड़ी कर पूरी राशि खुद के खाते में ट्रांसफर कर ली जाती है।

इसे भी पढ़ेः बीनागंज से Smack खरीदकर शिवपुरी खपाने ला रहे दो तस्कर गिरफ्तार, 2.5 लाख रुपए का 30 ग्राम स्मैक जब्त

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!