पाकिस्तान के दो टुकड़े करने वाली इंदिरा गांधी का नाम स्वर्णिम अक्षरों में हमेशा रहेगा दर्ज- सीएम भूपेश

रायपुर। भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जयंती पर सिविल लाइन स्थित न्यू सर्किट हाउस में कार्यक्रम का आयोजन किया गया. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इंदिरा गांधी को नमन करते हुए कहा कि इंदिरा गांधी ने जो काम किया चाहे परमाणु परीक्षण का काम हो, बांग्लादेश बनने में उनके योगदान हो. ऐसे उदाहरण इतिहास में कम मिलता है. पाकिस्तान जिस उद्देश्य से बना था उसको दो टुकड़ों में विभाजित कर बांग्लादेश का निर्माण किया गया. इतिहास में ऐसा दूसरा उदाहरण दिखाई नहीं देता है. आज छोटा सा सर्जीकल स्ट्राइक कर देते हैं, तो चुनाव में मुदा बना देते हैं और यहां राष्ट्र के दो टुकड़े कर देते हैं.

भूपेश ने कहा कि इंदिरा गांधी को विपक्ष के लोग गूंगी गुड़िया कहते थे, लेकिन उन्होंने जो काम किये इतिहास में उदाहरण मिलते हैं. उन्होंने गरीबी उन्मूलन के लिए पूरे देश में हरित क्रांति का आंदेलन किया. बैंक का राष्ट्रीयकरण, वनो का राष्ट्रीयकरण किया. आज बैंक बंद हो रहे हैं. बैंक से लोग पैसे निकाल नहीं पा रहे हैं. लोगों को डर सता रहा है कि पैसे निकाल पाएंगे कि नहीं. जो बैंक आम जनता के लिए खोल गया वो फिर से पूंजीपतियों के हाथों में सिमटते जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- इंदिरा गांधी की जयंती आज, सीएम भूपेश बघेल ने दी श्रद्धांजलि, कहा- उनके जन्मदिन के अवसर पर देश उन्हें श्रद्धापूर्वक याद कर रहा है 

उन्होंने कहा कि हरित क्रांति के कारण इतना अनाज हो रही है की रखने की जगह नहीं है. पीएससी में कोई जीरो ईयर घोषित नहीं हुआ है दुष्प्रचार किया जा रहा है. बोनस देने का मतलब है किसानों को प्रोत्साहन देना और दूसरी तरफ आप किसानों का धान नहीं खरीद रहे हैं. आज की सरकार किसानों को हतोत्साहित कर रही है. अगर नदी नाले को रोकते हैं, तो पर्यावरण बचाने का काम करते हैं. आज सबसे ज़्यादा पंजाब में दवाई और खाद का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन वहां कैंसर के सबसे ज़्यादा मरीज़ हैं. आज हम सब्ज़ी, अनाज में जितना ज़हर ग्रहण कर रहे हैं, हमें मालूम नहीं है. यदि उसी को हम जैविक खेती की ओर बढ़ते है तो रासायनिक खाद से मुक्ति मिल जाएगी.

दिल्ली में मास्क लगाना पड़ रहा है. ज़रूर आने वाले दिनों में वहां ऑक्सीजन बार भी खुलेंगें. 1972 में इंदिरा गांधी ने कह दिया था कि आने वाले दिनों में केवल पर्यावरण समस्या होगी. आज हम पोतल में पानी पीते है.

Related Articles

Back to top button
survey lalluram
Close
Close
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।