ये है कमोडिटी का हाल: देश में जमकर हुआ है चीनी प्रोडक्शन, इसलिए नहीं बढ़ेंगे इस कमोडिटी के दाम

मुंबई. राष्ट्रीय सहकारी शुगर कारखाना संघ लिमिटेड (एनएफसीएसएफ) ने कहा है कि देश में चीनी का उत्पादन चालू पेराई सीजन 2018-19 (अक्टूबर-सितंबर) में 300 लाख टन हो सकता है.

एनएफसीएसएफ की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, गन्ना पेराई सत्र 2018-19 (अक्टूबर-सितंबर) में देशभर में चालू 400 से अधिक चीनी मिलों ने तीन जनवरी तक 10.83 करोड़ टन गन्ने की पेराई करके 113 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है. सबसे ज्यादा महाराष्ट्र की चीनी मिलों ने 441 लाख टन गन्ने की पेराई करके 46 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है. इसके बाद उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों ने 308 लाख टन गन्ने की पेराई करके 20 लाख टन चीनी का उत्पादन किया है.

एनएफसीएसएफ के प्रबंध निदेशक प्रकाश नाइकनवरे ने कहा कि चीनी का उत्पादन चालू पेराई सीजन में 300 लाख टन हो सकता है, जबकि पिछले सीजन का बकाया स्टॉक 104 लाख टन के आसपास होगा. इस प्रकार चीनी उत्पादन व विपणन वर्ष 2018-19 (अक्टूबर-सितंबर) में चीनी की कुल आपूर्ति 404 लाख टन रह सकती है.

एनएफसीएसएफ के अनुसार, इस साल चीनी की खुल खपत करीब 260 लाख टन रहेगी और निर्यात लगभग 30 लाख टन हो सकता है. इस प्रकार, सीजन के अंत में 30 सितंबर को अगले साल के लिए बकाया स्टॉक करीब 114 लाख टन रह सकता है.

 

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।