हजारों ग्रामीणों ने क्षेत्रीय विकास कार्यों में अड़चन डालने वाले एनजीओ के खिलाफ खोला मोर्चा, राज्यपाल और मुख्यमंत्री को भेजा पत्र …

रायपुर। सरगुजा जिले के उदयपुर तहसील के हजारों ग्रामीणों ने कुछ एनजीओं के खिलाफ उन्हे दिग्भ्रमित करने का आरोप लगाया है, उनका कहना है कि ग्रमीणों के रोजगार और क्षेत्रीय विकास कार्यों में अड़चन डाली जा रही है और साथ ही ग्रामीणों का आरोप है कि जोर-जबरदस्ती कर चंदा भी वसूल किया जा रहा है। जिसको लेकर गुस्साए ग्रामीणों ने आज यानि कि बुधवार को सरगुजा कलेक्टर को पत्र लिखकर इस बात से अवगत कराया है. साथ ही इस पत्र की प्रतिलिपि राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को भी उपल्ब्ध कराकर कार्रवाई की मांग की है.

इसे भी पढे़ं : अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई: CG पुलिस ने 1 करोड़ 10 लाख रुपए का ब्राउन शुगर और हेरोइन किया जब्त, महिला समेत 3 तस्कर गिरफ्तार 

ग्रामीणों का आरोप है कि छत्तीसगढ बचाओ आंदोलन एवं हसदेव अरण्य संघर्ष समिती जैसे एनजीओ उनके क्षेत्र के विकास में बाधा डाल रहे हैं. साथ ही गलत जानकारी देकर इससे संबंधित दुष्प्रचार भी कर रहे है. इन दोनों एनजीओ पर तुरंत प्रभाव से प्रतिबंध लगाने का अनुरोध किया है.

इसे भी पढे़ं : सद्भावना का गढ़ कवर्धा: हिंदू मोहल्ले में मुस्लिम मजार, हिंदू ही करते हैं मजार की देखरेख, एकता का दे रहे संदेश… 

पत्र में लिखा गया है कि राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड को आबंटित परसा केंते कोयला खदान के विकास और संचालन का कार्य विगत 10 वर्षों से किया जा रहा है. जिससे हजारों स्थानीय युवाओं एवं व्यक्तियों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के अवसर प्राप्त हो रहे हैं. वहीं स्थानीय स्तर पर शिक्षा, स्वास्थ्य, तथा कौशल विकास के साथ साथ क्षेत्र की महिलाओं के लिए महिला उद्यमी बहुउद्देशीय सहकारी समिति का संचालन से क्षेत्र का विकास हो रहा है.

इसे भी पढे़ं : Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

हजारों ग्रामीणों ने पत्र के माध्यम से यह भी अवगत कराया है कि छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन एवं हसदेव अरण्य समिती जैसे तथाकथित एनजीओ द्वारा कुछ बाहरी व्यक्तियों को जोड़कर शासन प्रशासन के बिना अनुमति के भीड़ इक्कठा कर रहे हैं. वहीं गांव के लोगों को गलत जानकारी देकर दिग्भ्रमित व जोर जबरदस्ती कर चंदा भी वसूल किया जा रहा है. इसकी वजह से सभी ग्रामों के बीच आपसी सौहाद्र, लोगों के स्वास्थ और ग्रामों की संस्कृति पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है.

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।