ट्रेनी डीएसपी और कमांडर्स को हार्ट अटैक में दिल और फेफड़े को पुनर्जीवित करने की दी जानकारी…

राज्य पुलिस अकादमी में बेसिक लाइफ सपोर्ट पर कार्यशाला का आयोजन

रायपुर। राज्य पुलिस अकादमी, चंद्रखुरी में तपस्या सामाजिक सेवा संस्थान की ओर से ट्रेनी डीसपी के लिए बेसिक लाइफ सपोर्ट पर कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला में ट्रेनी डीसपी और कमांडर्स को बेसिक लाइफ सपोर्ट एवं एडवांस कार्डिक लाइव सपोर्ट की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग और सीपीआर करवाया.

एडिशनल एसपी रमा शंकर द्विवेदी, डीसपी रूपा खेस, अध्यक्ष विनीत अग्रवाल, कार्यक्रम निदेशक डॉ. प्रीति सतपथी, मुख्य वक्ता रेडक्रॉस सोसाइटी के डॉ. यशवंत चंद्राकर ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यशाला का शुभारंभ किया. इस अवसर पर डॉ चंद्राकर ने बताया कि कार्डिक अरेस्ट में 180 सेकंड से 300 सेकंड, हार्ट अटैक में 30 मिनट से 90 मिनट, स्टॉक में 3 घंटे से साढे 4 घंटे का गोल्डन पीरियड होता है. सीपीआर द्वारा दिल और फेफड़ों को पुनर्जीवित करने की तकनीकी भी विस्तार से समझाया.

संस्थान के अध्यक्ष श्री विनीत अग्रवाल ने बताया की बेसिक लाइफ सपोर्ट की जानकारी से मेडिकल इमरजेंसी के वक्त किसी की जान बचाई जा सकती है. बहुत कम लोगों को इसकी जानकारी है जिसकी वजह से मरीज सही समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पाता और हम एक बहुमूल्य जान गवां देते हैं. यदि हमारे आसपास किसी के साथ ऐसी घटना होती है तो उस समय शान्त मन व धैर्य से जीवन रक्षक तकनीकों का प्रयोग करना चाहिए. यह तकनीक प्रत्येक नागरिक को आनी चाहिए.

कार्यक्रम निदेशक डॉ. प्रीति सतपथी ने कहा है कि संस्थान ने अपनी नैतिक जिम्मेदारी को समझते हुए इस अभियान की शुरुआत की गई है, जिससे किसी मरीज को बचाया जा सके. उन्होंने बताया कि आगे भी यह अभियान जारी रहेगा. अगले चरण में ट्रैफिक पुलिस और रेलवे कर्मचारी को प्रशिक्षण देने का है. कार्यशाला के समापन पर संस्थान की उपाध्यक्ष आभा बघेल ने आभार व्यक्त किया, इस दौरान डॉ. युक्ति टांक, डॉ. भवानी प्रधान, फरज़ाना खातून, राहुल शर्मा, श्रधेय नमन मिश्रा, नेमी वर्मा, शिवनंदन सरोज आदि उपस्थित रहे.

Related Articles

Back to top button
Close
Close
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।