दुर्ग लोकसभा की हारी हुई सीट जीतने यूपी के मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने संभाला मोर्चा, कार्ययोजना बनाई और कहा- एक महीने बाद करूंगा समीक्षा

बीजेपी ने केंद्र की सत्ता में वापसी की कवायद अभी से शुरू कर दी है. संगठन के केंद्रीय नेतृत्व ने हाल ही में लोकसभा की उन सीटों पर फोकस दिया है, जहां बीते चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों को हार का सामना करना पड़ा था. छत्तीसगढ़ की दुर्ग ऐसी इकलौती सीट थी, जहां संगठन को हार का मुंह देखना पड़ा. केंद्रीय नेतृत्व ने दुर्ग लोकसभा सीट में हार की वजह ढूंढने के साथ ही संगठन की जमीन को चुनावी नजरिए से उपजाऊ बनाने की जिम्मेदारी उत्तरप्रदेश के परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह के सौंपी थी.
स्वतंत्र देव सिंह अपने इस मिशन के साथ ही दो दिनों तक छत्तीसगढ़ प्रवास पर रहे. दुर्ग लोकसभा क्षेत्र के बेमेतरा, दुर्ग और भिलाई का दौरा किया. संगठन के पदाधिकारियों से लेकर कार्यकर्ताओं से रायशुमारी की. प्रदेश कार्यालय में प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं से लेकर मुख्यमंत्री डाॅ.रमन सिंह से मुलाकात भी की. स्वतंत्र देव सिंह ने अपने इस दौरे के दौरान दुर्ग लोकसभा सीट क्षेत्र से जुड़े संगठन के पदाधिकारियों की जिम्मेदारी सुनिश्चित की है. उन्होंने संगठन की मौजूदा स्थिति की समीक्षा करने के साथ-साथ बूथ कमेटियों को मजबूत करने की रणनीति तैयार करते हुए इसके क्रियान्वयन का जिम्मा संगठन नेताओं को सौंपा है. इस दलील के साथ एक महीने बाद दोबारा इसकी समीक्षा की जाएगी कि जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी गई है, उसे कहां तक पूरा किया गया.
स्वतंत्र देव सिंह ने दौरा खत्म होने के बाद कहा कि-
देश में 127 लोकसभा सीटों का चिन्हाकंन किया गया है. अलग-अलग राज्यों के पदाधिकारियों को इन लोकसभा सीटों की जिम्मेदारी सौंपी गई है. मुझे चार लोकसभा सीटों का जिम्मा सौंपा गया है. दुर्ग लोकसभा सीट भी इनमें से एक हैं. अपने दौरे के दौरान मैंने संगठन की क्या स्थितियां हैं, बूथ कमेटियों की स्थिति कैसी है. इन तमाम चीजों को लेकर समीक्षा की है. बूथ कमेटियों के नए सिरे से गठन, बूथ की संरचना, शक्ति केंद्र को मजबूत करने की जिम्मेदारी पदाधिकारियों को सौंपी है. समीक्षा बैठक के दौरान ये बाते सामने आई है कि स्थानीय स्तर पर केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं को लेकर लोगों में उत्साह है. हमने तय किया है कि सरकार की योजनाओं का फायदा उठा रहे हितग्राहियों का बूथ स्तर पर सम्मान कराया जाए. हमारा लक्ष्य है, अगले चुनाव में मोदी सरकार दोबारा बनाना. बीजेपी का लक्ष्य निर्धारित है. मिशन तय है. अन्य राजनीतिक दलों के लिए राजनीति व्यापार है, लेकिन हम राजनीति एक मिशन के तौर पर करते हैं कि दुनिया भारत माता के चरणों में नतमस्तक हो. आने वाला वक्त कांग्रेस मुक्त भारत बनेगा. कांग्रेस ने 60 सालों में क्या किया, इसे हर कोई जानते हैं.

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने स्वतंत्र देव सिंह के दौरे पर कहा कि

केंद्रीय नेतृत्व द्वारा जिस लोकसभा में बीजेपी के सांसद नहीं है, उन लोकसभा में बीजेपी के प्रभारी नियुक्त किया गया है. ये प्रभारी चुनाव तक संगठन और सरकार के दृष्टिकोण से कामकाज देखेंगे. उत्तरप्रदेश के मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को प्रभारी बनाया गया है. बेमेतरा, दुर्ग और भिलाई का दौरा किया. पदाधिकारियों की बैठक ली. पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के बाद आज प्रदेश कार्यालय में जिलाध्यक्ष और महामंत्रियों की आज बैठक ली. कार्ययोजना बनाकर जिलाध्यक्षों को दी है. एक महीने बाद फिर वापस आएंगे. देखेंगे कि कार्ययोजना पर अमलीजामा पहनाया गया है.  2019 के लोकसभा चुनाव में इसका लाभ मिलेगा.  ठीक से क्रियान्वय हुआ तो 2019 में बीजेपी के सांसदों की बढ़ोतरी होगी.

विज्ञापन

धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।