Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

लखनऊ. यूपी में सरकारें सभी जिलों के लिए खुले में शौच से मुक्त होने का दावा करती हैं, लेकिन हाल ही में आई नेशनल एन्युल रूरल सैनिटेशन (NARSS) सर्वे की तीसरे चरण की रिपोर्ट इसकी कुछ और ही हकीकत बयां करती है. नार्स सर्वे की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में अभी 47 जिले ऐसे हैं जिनमें कई परिवारों के पास अब तक शौचालय नहीं हैं और वह खुले में शौच के लिए जाने को मजबूर हैं.

नार्स सर्वे की रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण (एसबीएम) के मिशन निदेशक राजकुमार ने सभी 47 जिलों का सर्वे कराकर छूटे हुए परिवारों को शौचालय उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए हैं. नेशनल एन्युल रूरल सैनिटेशन (नार्स) सर्वे की आई तीसरे चरण की रिपोर्ट में सबसे ज्यादा खराब स्थिति चित्रकूट और एटा जिले की बताई गई है. इसमें बताया गया कि चित्रकूट में अब तक मात्र 65.33 फीसद परिवारों को ही शौचालय उपलब्ध हो सके हैं, जबकि 34.77 फीसद परिवार अभी भी शौचालय से दूर हैं.

इसे भी पढ़ें – नाबालिग लड़की का अपहरण कर ले गया दिल्ली, फिर गंदा काम के लिए धकेला, विरोध करने पर कई बार किया रेप

इसी तरह एटा में 80 फीसद परिवारों को शौचालय मिलने और 20 फीसद परिवारों के खुले में शौच जाने की रिपोर्ट दी गई है. इस सूची में 23 जिले शामिल हैं, जो 95 फीसद तक ही लोगों को शौचालय दे सके हैं. इनमें चित्रकूट और एटा के अलावा बांदा, प्रतापगढ़, प्रयागराज, महोबा, संतकबीरनगर, झांसी, मऊ, हमीरपुर, मैनपुरी, भदोही, अलीगढ़, बलिया, आजमगढ़, गोरखपुरा, अमेठी, ललितपुर, सोनभद्र, देवरिया, कौशांबी, बुलंदशहर और संभल शामिल है. नार्स सर्वे की रिपोर्ट में 95 फीसद तक शौचालय से संतृप्त 23 जिलों के अलावा 95 से 99.26 फीसद तक ही शौचालय बनवा पाने वाले 24 और जिले भी शामिल किए हैं. जिसमें बरेली मंडल का बदायूं 98.75 फीसद शौचालय आवंटित कर चुका है, जबकि यहां अभी 1.25 फीसद लोग खुले में शौच जा रहे हैं.

वहीं पीलीभीत में 0.74 फीसद और शाहजहांपुर में 3.49 फीसद लोगों के पास अब तक शौचालय नहीं है. इसी तरह रामपुर में भी 1.48 फीसद लोग खुले में शौच जा रहे हैं. इनके अलावा 95 से 99.26 फीसद तक शौचालय वाले जिलों में लखीमपुरखीरी, महाराजगंज, सिद्धार्थ नगर, जौनपुर, रायबरेली, लखनऊ, इटावा, गोंडा, बाराबंकी, सुल्तानपुर, हाथरस, मथुरा, कुशीनगर, बलरामपुर, हरदोई, अयोध्या, मिर्जापुर, बहराइच, बस्ती, फीरोजाबाद शामिल हैं.

Read more – Opposition MPs Protest Against Suspension