मस्जिद प्रकरण फिर गर्माया, तत्कालीन ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट के खिलाफ CPI ने खोला मोर्चा

बाराबंकी. तहसील रामसनेहीघाट स्थित ब्रिटिश काल मे स्थापित गरीब नवाज मस्जिद का विवाद अब दिन-प्रतिदिन गंभीर होता चला जा रहा है. पूर्व में तहसील में तैनात रहे ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट ट्रेनी आइएएस दिव्यांशु पटेल के विरोध में सीपीआई नेता व वरिष्ठ अधिवक्ता उतर आए हैं.

Close Button

सीपीआई के नेता व वरिष्ठ अधिवक्ता रणधीर सिंह सुमन ने कहा कि ट्रेनी आइएएस को पावर नहीं थी तो तहसील में प्रशिक्षण ले रहे थे. उनके विरुद्ध सरकार को जांच करवाकर सख्त कारवाई करनी चाहिए. उल्टा ही सरकार ने इनाम देते हुए उन्हें तहसील से सीधे जिले का पद देकर उन्नाव जिले का सीडीओ बनाकर तबादला कर दिया. जबकि दिव्यांशु पटेल के विरुद्ध जांच के बाद आवश्यक कार्रवाई होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें – मस्जिद ध्वस्तीकरण मामला : प्रशिक्षु IAS ज्वाइंट मजिस्ट्रेट दिव्यांशु पटेल का तबादला

दरसल बीते दिनों बुलडोजर चलवाकर तहसील प्रशासन ने रामसनेहीघाट में एसडीएम आवास के पास में बनी ब्रिटिश कालीन गरीब नवाज मस्जिद को ध्वस्त करवा दिया गया था और उसमें कुछ लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया था वही एक व्यक्ति के विरुद्ध तो एनएसए के तहत कार्रवाई की गई थी. जबकि पूरे प्रकरण में गलत कार्रवाई की और पूरी तरह इसकी जिम्मेदारी वहां पर तैनात रहे ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रशिक्षु आइएएस दिव्यांशु पटेल के विरुद्ध होनी चाहिए थी.

Read more – India Records Lowest Daily Rise with 1.2 lakh; 3,380 Deaths Reported

Related Articles

Back to top button
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।