वाह! ‘नीतीश बाबू’ के राज में वैक्सीन फर्जीवाड़ा…पीएम मोदी, अमित शाह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका चोपड़ा, ऐश्वर्या राय, कैटरीना कैफ को बिहार में लगवा दी वैक्सीन

‘नीतीश बाबू’ के बिहार के अरवल के करपी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना वैक्सीन को मजाक बनाकर रख दिया गया है. इस बात का खुलासा उस समय हुआ जब यहां वैक्सीन लेने वालों की लिस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi), केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah), सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra), कैटरीना कैफ, ऐश्वर्या राय समेत अन्य बड़ी हस्तियों के नाम नजर आए. अधिकारी भी दिग्गज नेताओं और बॉलीवुड हस्ती के नाम कोरोना टेस्ट लिस्ट में देखकर चौंक गए.

 आम तौर पर देशवासी यही जानते हैं कि पीएम नरेन्द्र मोदी का निवास स्थान नई दिल्ली के 7 लोककल्याण मार्ग है, तो सोनिया गांधी का 10 जनपथ और होम मिनिस्टर अमित शाह कृष्ण मेनन लेन नई दिल्ली का है. लेकिन ‘नीतीश बाबू’ के राज में अरवल जिले के सरकारी रिकार्ड में पीएम मोदी करपी के दोर्रा व पुरान गांव के निवासी हैं तो अमित शाह का भी पुरान में ही आवास बताया गया है जबकि सोनिया गांधी व राहुल गांधी को जोन्हा गांव के निवासी बताए गए हैं.

इस बॉलीवुड हस्तियों को भी लगा दी वैक्सीन…

यही नहीं इसके अलावा प्रियंका चोपड़ा, कैटरीना कैफ व ऐश्वर्या राय को भी प्रखंड के विभिन्न गांवों का निवासी बनाते हुए सरकारी रिकार्ड में उन्हें करपी के सामुदायिक केन्द्र में वैक्सीनेटेड होने की बात सामने आई है. हालांकि रिकार्ड में गत 27 अक्टूबर को ही उक्त दिग्गज हस्तियों को यहां वैक्सीनेट किए जाने का रिकार्ड दर्ज किया गया है लेकिन मामला अब निकलकर सामने आया है.

ऐसा नहीं कि इस मामले को किसी बाहरी ने उजागर किया है बल्कि यह सनसनीखेज मामले का खुलासा विभाग के अंदर आपसी क्लैश ऑफ इंटरेस्ट में उभरकर सामने आया है. दरअसल यह पूरा मामला अरवल जिले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र करपी से जुड़ा है, जहां इस खुलासे के बाद व्यापक रूप से फर्जीवाड़े की आंशका व्यक्त की जा रही है. इसके बाद वैक्सीनेशन की पूरी सूची की प्रमाणिकता ही सवालों के घेरे में आ गई है. लोगों का कहना है कि करपी में मिले रैपिड एंटीजन टेस्ट किट, आरटीपीसीआर जांच के नाम पर सैकड़ों लोगों का नाम फर्जी तरीके से डाल दी गई, जिनके नाम और मोबाइल नंबर की कायदे से जांच करने के बाद सूची में फर्जीवाड़ा उजागर हो सकता है.

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!