Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

नई दिल्ली। दिल्ली में बरसात के पानी को सहेजकर रखने का काम युद्धस्तर पर चल रहा है. इस साल की बारिश में पूरी दिल्ली में बारिश के पानी को इकठ्ठा करने के लिए 1500 से अधिक नए अधिक रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पिट्स बनाए जा रहे हैं, जो 15 जुलाई से पहले बनकर तैयार हो जाएंगे. इसे लेकर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को पीडब्ल्यूडी, दिल्ली जल बोर्ड, दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए), सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग, दिल्ली नगर निगम, नई दिल्ली नगर पालिका परिषद् (एनडीएमसी) के उच्चाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की और नए बनाए जा रहे रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पिट्स से संबंधित तैयारियों का जायजा लिया.

दिल्ली पानी के लिए पड़ोसी राज्यों पर निर्भर

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया

मनीष सिसोदिया ने कहा कि वर्षा जल एक महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन है और दिल्ली जैसे शहर के लिए इसे सहेजकर रखना बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि हम पानी के लिए अपने पड़ोसी राज्यों पर निर्भर हैं. हम ग्राउंड वॉटर को रिचार्ज कर भूजल स्तर बढ़ाना चाहते हैं, ताकि बाद में उसका इस्तेमाल किया जा सके और पानी के मामले में दिल्ली आत्मनिर्भर बन सके. इसलिए पूरी दिल्ली में विभिन्न नोडल एजेंसीज साथ मिलकर 1,548 नए रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पिट्स बना रही है, जिसके बाद इनकी संख्या बढ़कर 2,475 हो जाएगी.

ये भी पढ़ें: उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पर 100 करोड़ की मानहानि का मुकदमा दर्ज, असम की CM की पत्नी ने कराया केस दर्ज, जानिए पूरा मामला

बेकार बहने वाले लाखों लीटर पानी को किया जाएगा स्टोर

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि बरसात के पानी को व्यर्थ बहने देने से रोककर इन पिट्स को भरने का काम किया जाएगा, जिसकी मदद से हम ग्राउंड वॉटर रिचार्ज कर पाएंगे और बरसात में व्यर्थ बहने वाले लाखों लीटर पानी को स्टोर कर पाएंगे. उन्होंने सभी नोडल एजेंसीज को रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पिट्स बनाने के काम को तेजी से पूरा करने की बात कही, ताकि मानसून के दौरान इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके.

ये भी पढ़ें: ऑटो पंजीकरण और ट्रासंफर प्रक्रिया में बदलाव, लोन डिफॉल्टर होने पर फाइनेंसरों के कब्जे में लिया गया ऑटो एक से दूसरे व्यक्ति को अब नहीं होगा सीधा ट्रांसफर

डेनमार्क के साथ मिलकर काम करेगी दिल्ली सरकार

उल्लेखनीय है कि दिल्ली सरकार दिल्ली को पानी के मामले में आत्मनिर्भर बनाने के लिए तेजी से काम कर रही है. इस बाबत पिछले दिनों सीएम अरविंद केजरीवाल ने डेनमार्क के राजदूत फ्रेडी स्वैन से मुलाकात की थी और डेनमार्क के वर्षा जल संरक्षण मॉडल को समझा था. इस दौरान फ्रेडी स्वैन ने बताया था कि कैसे वर्षा जल को संरक्षित कर डेनमार्क ने स्वयं को पानी के लिए आत्मनिर्भर बनाया है. सरकार डेनमार्क के उन मॉडलों को दिल्ली में भी अपनाने का विचार कर रही है.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के विरोध-प्रदर्शन के दौरान 197 में से 18 सांसद हिरासत में, पुलिस पर थूकने वाली कांग्रेस नेता पर दर्ज होगा मुकदमा : दिल्ली पुलिस

जमीन पर बनाए जाते हैं सोखता गड्ढे

रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पिट्स की कार्यप्रणाली बहुत सामान्य होती है, जिसमें जमीन पर सोखता गड्ढे बनाए जाते हैं. बरसात के दौरान बारिश के पानी को इन गड्ढों के माध्यम से एकत्र किया जाता है और यह पानी जमीन के अंदर जाता है, जिससे भूजल का स्तर बढ़ता है. जिस तेजी से भूजल स्तर कम होता जा रहा है, उसे देखते हुए वर्तमान में जल संरक्षण के ऐसे उपाय बेहद महत्वपूर्ण हो चुके हैं.