Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

मनोज यादव, कोरबा। सरकारी क्षेत्र में भ्रष्टाचार को लेकर सरकार भले ही लाख दावे कर रही है कि जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम किया जाएगा, लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है. कोरबा जिले में आबकारी विभाग के वसूली वाले कारनामे आए दिन सामने आ रहे हैं.

देखिए VIDEO

कटघोरा के पास जुराली गांव में शराब पकड़ने के नाम पर आबकारी की टीम ने एक ग्रामीण से 15000 रुपये ऐंठ लिए. VIDEO में आबकारी टीम कई प्रकार के दावे करते नजर आ रही है.

यह बात सही है कि कोरबा जिले के कई गांव में अवैध रूप से शराब बनती है और इसे बेचा जाता है, जिन लोगों को शराब बनाने की छूट मिली हुई है, वह भी आबकारी के कोप का भाजन बन चुके हैं. इसी को लेकर पिछले दिनों गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने प्रदर्शन भी किया था.

हाल में ही एक वीडियो सामने आया है, जिसमें कटघोरा के पास जुराली गांव में शराब पकड़ने के लिए पहुंची आबकारी की टीम ने कार्रवाई नहीं करने की शर्त पर ₹15000 बड़ी आसानी से हासिल कर लिए. इस पूरी कार्रवाई का वीडियो किसी जागरूक व्यक्ति ने तैयार कर लिया जो इस वीडियो में आबकारी के कर्मी खाकी रंग की ड्रेस में नजर आ रहे हैं.

मौके पर मामले को लेकर बातचीत की जा रही है और सौदेबाजी को अंतिम रूप देते हुए रुपए पेश करने की तस्वीर भी नजर आ रही है. इसमें एक कर्मचारी रुपए लेने मे संकोच करता दिख रहा है जिसे दूसरा कर्मी कह रहा है कि सब अपने लोग हैं.

अगला वीडियो इसी स्थान का है जहां पर रुपयों का लेनदेन किया गया. इस दौरान एक व्यक्ति ने आबकारी विभाग के एक कर्मचारी से पूछ लिया कि यहां से लिए गए रुपयों का क्या होगा. जवाब में कर्मचारी कहता नजर आ रहा है कि सबका हिस्सा बटा हुआ है. दरोगा का रेट सबसे ज्यादा है.

आबकारी विभाग के द्वारा अवैध शराब बनने की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई इस तरह की सूचना मिली है. ऐसे मामलों में दो प्रकार के विकल्प दिए जाते हैं या तो केस बनाओ या रफा दफा करो. दूसरी शर्त के मतलब होते हैं भारी भरकम रुपयों की व्यवस्था करो.

कार्रवाई के पचड़े से बचने के लिए लोग या तो जमीन गिरवी रखकर व्यवस्था करते हैं या तो उधार लेकर पता चला कि मौजूदा घटनाक्रम में संबंधित व्यक्ति ने अपनी जमीन का एक हिस्सा गिरवी रखने के साथ ₹15000 की व्यवस्था थी.

इसे आबकारी विभाग की टीम को समर्पित कर दिया. हालांकि इस तरह का यह पहला मामला नहीं है. कहा तो यह भी जाता है कि ऐसे मामलों से ही बड़े लक्ष्य की पूर्ति संभव हो पाती हैं. इसलिए इतनी रिस्क लेना तो बनता ही है. शायद इसीलिए तमाम मामलों के सामने आने पर भी दोषियों पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं होती.