आदिवासियों का उत्पीड़न, बाल अपराध और मासूमों के साथ दुष्कर्म में MP देश में पहले पायदान पर, NCRB के आंकड़े आए सामने, कांग्रेस बोली- यह है शिवराज के 16 साल के विकास की तस्वीर

शब्बीर अहमद, भोपाल। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ( NCRB ) के अनुसार देश भर में आदिवासियों के उत्पीड़न में मध्य प्रदेश पहले नंबर पर है। एनसीआरबी के साल 2020 के सामने आए डाटा में इसका खुलासा हुआ है। आंकड़ों के मुताबिक मध्यप्रदेश में 2019 की तुलना में साल 2020 में 20% मामले बढ़ गए हैं। अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के मध्यप्रदेश में 2401 मामले दर्ज हुए हैं।

इसके साथ ही बच्चों के संग अपराध के मामले में भी मध्यप्रदेश पहले पायदान पर है। देशभर में मध्य प्रदेश बच्चों के लिए सबसे असुरक्षित राज्य बन गया है। बच्चों के साथ रेप के मामलों में भी मध्यप्रदेश पहले पायदान पर है।

 

NCRB के आंकड़ों को लेकर कमलनाथ ने सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने कहा कि मध्य प्रदेश में पिछले 1 साल में 20 फ़ीसदी आदिवासियों पर अत्याचार बढ़े हैं। बाल अपराध, मासूमों के साथ दुष्कर्म में भी एमपी पहले पायदान पर है। NCRB के आंकड़े बताते हैं कि मध्यप्रदेश बच्चों के लिए असुरक्षित है।

NCRB के आंकड़ों को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा, “एनसीआरबी के वर्ष 2020 के आँकड़ो में मध्यप्रदेश आदिवासियों के उत्पीड़न में शीर्ष पर , पिछले वर्ष के मुक़ाबले 20% बढ़े मामले , 2401 मामले दर्ज। बाल अपराध, मासूमों के साथ दुष्कर्म में भी प्रदेश शीर्ष पर, आँकड़ो के मुताबिक़ बच्चों की दृष्टि से प्रदेश असुरक्षित।यह है शिवराज सरकार के 16 वर्षों के विकास की तस्वीर। जब से प्रदेश में शिवराज सरकार आयी है आदिवासी , दलित , शोषित वर्ग पर उत्पीड़न व दमन की घटनाएँ बढ़ी है , दुष्कर्म की घटनाएँ रोज़ घटित हो रही है, अपराधी तत्वों के हौसले बुलंद है, क़ानून का कोई ख़ौफ़ नही बचा है।”

इसे भी पढ़ें ः MP में राज्यसभा की सीट जाएगी BJP के खाते में, कांग्रेस ने उम्मीदवार नहीं उतारने का लिया फैसला

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।