छत्तीसगढ़ में अब कक्षा 5वीं से 12वीं तक के पाठ्यक्रम में शामिल होगी महात्मा गांधी की बुनियादी शिक्षा

सत्या राजपूत, रायपुर। छत्तीसगढ़ में अब कक्षा 5वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में पाठ्यक्रम में महात्मा गांधी की बुनियादी शिक्षा शामिल होगी. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसको लेकर निर्देश दिए हैं. बच्चों के सर्वांगीण विकास के साथ ही आत्मनिर्भर बनाने वाली शिक्षा का प्रबंध करने के लिए निर्देश दिए हैं.

CM बघेल ने कहा कि गांवों का भ्रमण कर ग्रामीण अर्थव्यवस्था के साथ-साथ जलसंरक्षण और मृदा संरक्षण का महत्व बच्चे समझेंगे.
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर छत्तीसगढ़ में अब नयी पीढी को महात्मा गांधी की बुनियादी शिक्षाओं से जोड़ा जाएगा.

गांधीजी के आदर्शो और सिद्धांतों से बच्चों को अवगत कराने के लिए इन्हें कक्षा 5वीं से 12वीं के शैक्षणिक पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा. इसमें शहरी के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को गांधी जी की मंशा के अनुरूप शिक्षा जाएगी दी.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसके लिए मुख्य सचिव को निर्देश दिए हैं कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के साथ आत्मनिर्भर बनाने वाली शिक्षा का प्रबंध राज्य शासन द्वारा सुनिश्चित किया जाए. मुख्यमंत्री बघेल की पहल पर गांधीजी के आत्मनिर्भर ग्राम की संकल्पना को पूरा करने के लिए स्कूली बच्चों को गांव का भ्रमण कराकर सरकार की महत्वकांक्षी सुराजी गांव योजना के तहत नरवा, गरूवा, घुरूवा और बाड़ी के बारे में विस्तार से बताया जाएगा.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि इससे स्कूली बच्चों को ग्रामीण अर्थव्यवस्था के साथ-साथ जलसंरक्षण और मृदा संरक्षण जैसे विषयों पर जानकारी मिल सकेगी और आत्मनिर्भर ग्राम की कल्पना को साकार करने में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ेः चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने किया दावा, राजधानी में भी हुआ 100% टीकाकरण

">

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
 
धन्यवाद, लल्लूराम डॉट कॉम के साथ सोशल मीडिया में भी जुड़ें। फेसबुक पर लाइक करें, ट्विटर पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।