whatsapp

P T Usha का IOA अध्यक्ष बनना तय : खेल रत्न शरत कमल और अर्जुन अवॉर्डी मानसी ने जताई खुशी

स्पोर्ट्स डेस्क. खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित अचंता शरत कमल सहित भारत के शीर्ष खिलाड़ियों ने पीटी उषा (P T Usha) के भारतीय ओलम्पिक संघ (IOA) के नए अध्यक्ष के रूप में चुनाव की सराहना की. उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में देश के खेल प्रशासन के लिए ये सबसे अच्छी खबर है. अध्यक्ष चुनाव में कोई और प्रतिद्वंद्वी नहीं होने के कारण उषा का 10 दिसंबर को IOA की पहली महिला अध्यक्ष बनना तय है. वह IOA की प्रमुख बनने वाली पहली ओलम्पियन और पहली अंतरDराष्ट्रीय पदक विजेता भी बनेंगी.

शरत कमल ने राष्ट्रपति भवन में खेल रत्न से सम्मानित होने से पहले कहा कि यS वास्तव में बहुत अच्छा है कि कई वर्षों से देश की एक महिला खेल आइकन रही पीटी उषा को अगले आईओए अध्यक्ष (IOA President) के रूप में चुना जा रहा है. उषा के आईओए प्रमुख रहते भारत को ओलम्पिक सहित अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में ज्यादा पदक मिलेंगे. हाल ही में गठित एथलीट आयोग के उपाध्यक्ष बने इस खिलाड़ी ने कहा कि यह हाल के दिनों में खेल प्रशासन से जुड़ी सबसे अच्छी खबर है. मैं दो कारणों से खुश हूं. उषा भारत की सबसे महान खिलाड़ियों में से एक हैं और दूसरी बात यह है कि एक महिला को आईओए प्रमुख के रूप में चुना जा रहा है.

नाम के साथ विश्वसनीयता जुड़ी हुई है : मानसी जोशी

अर्जुन पुरस्कार हासिल करने वाली पैरालिम्पियन और पूर्व विश्व चैम्पियन मानसी जोशी ने कहा कि उषा भारत में खेल प्रशासन से वाकिफ हैं और उनके पास काफी अनुभव है. उनका कद काफी बड़ा है और उनके नाम के साथ विश्वसनीयता जुड़ी हुई है. इससे आईओए और भारतीय खेलों को लंबे समय में फायदा होगा.

प्रणय, वलारिवान और प्रज्ञानानंदा ने भी सराहा

बैडमिंटन खिलाड़ी एचएस प्रणय ने अर्जुन पुरस्कार लेने के बाद कहा कि यह सही दिशा में एक बड़ा कदम है. वह भारतीय खेलों में सकारात्मक बदलाव करने में सक्षम है क्योंकि वह ओलम्पिक खेलों को अंदर से जानती है. अर्जुन पुरस्कार की एक अन्य विजेता निशानेबाज इलावेनिल वलारिवान का मानना है कि उषा भारतीय खेल प्रशासन में नए मानदंड स्थापित कर सकती हैं. चेस ग्रैंडमास्टर आर. प्रज्ञानानंदा ने कहा कि यह भारतीय खेलों के लिए वास्तव में अच्छा है कि बेहतरीन खिलाड़ियों को शीर्ष पदों पर बैठने का मौका मिल रहा है.

इसे भी पढ़ें :

Related Articles

Back to top button