Contact Information

Four Corners Multimedia Private Limited Mossnet 40, Sector 1, Shankar Nagar, Raipur, Chhattisgarh - 492007

भोपाल। मध्य प्रदेश में बढ़ते अपराध को देखते हुए सीएम शिवराज ने बड़ा फैसला लिया है. राजधानी भोपाल और इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू होगा. सरकार का यह फैसला है कि दोनों शहरों में पुलिस कमिश्नर ही जिम्मा संभालेंगे. भोपाल और इंदौर में अपराध काफी बढ़ रहा है. जिस कारण यह निर्णय लिया गया है.

BREAKING: बाल संप्रेक्षण गृह से भागे 4 अपचारी बालक, हत्या के प्रयास के मामले थे दर्ज, मचा हड़कंप 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर है. पुलिस अच्छा काम कर रही है. पुलिस और प्रशासन ने मिलकर कई उपब्धियां हासिल की है. लेकिन शहरीय जनसंख्या तेजी से बढ़ी रही है. इसलिए कानून और व्यवस्था की कुछ नई समस्या शुरू हो रही है. इसलिए उनके समाधान और अपराधियों पर नियंत्रण के लिए भोपाल और इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू कर रहे हैं. जिससे अफराधियों पर बेहतर नियंत्रण कर सके.

दिल्ली के बाद MP की हवा जहरीली: भोपाल, इंदौर, ग्वालियर समेत 7 बड़े शहरों का AQI हाई, सांस लेना हुआ मुश्किल!

भोपाल और इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा कहा कि कानून व्यवस्था को सुचारु और सुव्यस्थित रखने के लिए कमिश्नर प्रणाली जरुरी थी. कमिश्नर प्रणाली से कानून व्यवस्था और सुदृढ़ होगी. उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को साधुवाद दिया.

बता दें कि इस पद पर आईएएस अधिकारी बैठते हैं, लेकिन पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू हो जाने के बाद ये अधिकार पुलिस अफसर को मिल जाते हैं, जो एक IPS होता है. जिले की बागडोर संभालने वाले डीएम के बहुत से अधिकार पुलिस कमिश्नर के पास चले जाते हैं. पुलिस कमिश्नर प्रणाली में पुलिस कमिश्नर सर्वोच्च पद होता है.

Read more- Health Ministry Deploys an Expert Team to Kerala to Take Stock of Zika Virus

">
Share: